General News

मुंबई: 10 साल पहले 26/11 आतंकी हमले को याद कर आंखें होती हैं नम, PM और राष्ट्रपति ने दी श्रद्धांजली

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

सपनों की नगरी कही जाने वाली देश की आर्थिक राजधानी मुंबई आज से ठीक 10 साल पहले गोलियों की आवाज से कांप उठी थी. देश के सबसे बड़े आतंकी हमले ने लोगों के रौंगटे खड़े कर दिए थे. हर तरफ चीखें और दर्दनाक आवाजें गूंज रही थी. 26/11 के आतंकी हमले के 10 साल पूरे होने पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दर्दनाक हमले में अपनी जान गंवाने वाले लोगों को श्रद्धांजली अर्पित की है.

पीएम मोदी ने ट्वीट करके लिखा, 'मुंबई में 26/11 के भयानक आतंकवादी हमलों में अपनी जान गंवा चुके लोगों को श्रद्धांजलि. शोकग्रस्त परिवारों के साथ हमारी भावनाएं जुड़ी हैं. देश उन बहादुर पुलिसकर्मियों और सुरक्षा बलों को नमन करता है जिन्होंने मुंबई हमले के दौरान आतंकियों का बड़ी बहादुरी से डट कर मुकाबला किया और राष्ट्र की रक्षा की.

साथ ही देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 26/11 के मुंबई आतंकी हमले में जिन्होंने अपनी जान गंवाई उन्हें नमन किया है.

इसके अलावा केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने भी आंतकी हमले पर श्रद्धांजलि व्यक्त की. जेटली ने कहा कि 26/11/2008 मुंबई के आतंकवादी हमले के एक दशक में हम अपने बहादुर पुलिस कर्मियों और सुरक्षा बलों को याद करते हैं. इस गंभीर आतंकवादी हमले के पीड़ित परिवारों के साथ हमारी गहरी सहानुभूति है. ये दिन हमारे इतिहास में सबसे दुखद दिनों में से एक है. लेकिन आतंकवाद के खिलाफ हम दृढ़ और एकजुट हैं ये इसका पर्याय है.


साथ ही केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी इस हमले पर श्रद्धांजली अर्पित की. रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट कर लिखा, '26/11 के आतंकवादी हमले के शहीदों को मेरी विनम्र श्रद्धांजली.'

बता दें, 10 साल पहले हुए मुंबई हमले में 166 मासूम लोगों ने अपनी जान गवां दी थी और 300 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. रौंगटे खड़े कर देने वाले इस आतंकी हमले में 28 विदेशी नागरिकों को भी बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया गया था. लेकिन देश के वीर सपूतों (पुलिस और सुरक्षाबलों) ने सभी आतंकियों को चुन-चुन कर मार गिराया. इसके अलावा पकड़े गए आतंकी कसाब को कई सालों बाद फांसी पर चढ़ा दिया गया था.

DO NOT MISS