General News

लोग जम्मू-कश्मीर में स्वतंत्र रूप से घूम-फिर रहे हैं : जनरल बिपिन रावत

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने सोमवार को कहा कि लोग कश्मीर घाटी में स्वतंत्र रूप से घूम रहे हैं और जो लोग दावा कर रहे हैं कि वहां बंद हैं, उनका अस्तित्व आतंकवाद पर निर्भर है।

वह यहां पंजाब रेजिमेंट के 29वें और 30वें बटालियन को प्रेसिडेंट्स कलर से सम्मानित करने के बाद संवाददाताओं से बात कर रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर में जनजीवन प्रभावित नहीं हुआ है। लोग अपने आवश्यक काम कर रहे हैं, स्पष्ट संकेत हैं कि काम नहीं रूका है और लोग स्वतंत्र रूप से घूम रहे हैं। जिन लोगों को लगता है कि जीवन प्रभावित हुआ है, उनका अस्तित्व आतंकवाद पर निर्भर है।’’

रावत ने कहा कि ईंट भट्ठे सामान्य रूप से चल रहे हैं, ट्रकों में बालू ढोए जा रहे हैं और दुकानें खुली हैं जिससे प्रतीत होता है कि घाटी में जनजीवन सामान्य है।

सेना प्रमुख ने इस सवाल का जवाब नहीं दिया कि क्या नियंत्रण रेखा के पास तनाव है। उन्होंने कहा कि मंगलवार को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में भूकंप आने के कारण लोगों को समस्याएं झेलनी पड़ रही हैं।

पीओके में मंगलवार को 5.8 की तीव्रता वाले भूकंप के झटके महसूस किए गए जिसमें कम से कम 26 लोगों की मौत हो गई और 300 से अधिक लोग घायल हो गए।

सेना ने मंगलवार को कुछ फोटो और वीडियो जारी किए थे जिसमें जम्मू-कश्मीर में ‘‘सेबों की गाड़ियों में लोडिंग, खेतों में हो रहे कामकाज और लोगों के घूमने-फिरने’’ को दिखाया गया।

रावत ने सोमवार को इन दावों को खारिज किया था कि जम्मू-कश्मीर में शिकंजा कसना जारी है और कहा कि आतंकवादियों ने इस तरह की छवि पेश की है ताकि बाहरी दुनिया के समक्ष ‘‘कड़े कदमों’’ की गलत तस्वीर पेश की जा सके।

गौरतलब है कि पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त किए जाने के बाद से वहां पाबंदियां लगाई गई थीं।

बता दें जम्मू कश्मीर को संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत मिले विशेष दर्जे को समाप्त किये जाने के बाद बुधवार को लगातार 52वें दिन कश्मीर घाटी में सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा और सार्वजनिक परिवहन के साधन सड़कों पर नहीं दिखाई दिये।

मुख्य बाजार और अन्य कारोबारी प्रतिष्ठान बंद रहे। हालांकि, यहां टीआरसी चौक-लाल चौक पर कुछ दुकानदारों ने अपनी दुकानें लगाईं।

अधिकारियों के मुताबिक शहर के कुछ इलाकों में निजी कैब और ऑटो रिक्शा चलते हुए दिखाई दिये। निजी वाहन भी बिना अवरोध के चल रहे थे।

अधिकारियों ने कहा कि स्कूलों में कक्षाएं नहीं चल रही हैं। स्कूल खोलने के राज्य सरकार के प्रयास सफल नहीं हो पा रहे क्योंकि अभिभावक बच्चों की सुरक्षा के मद्देनजर उन्हें घर से निकलने नहीं दे रहे।

उन्होंने कहा कि कश्मीर में मोबाइल सेवाएं आज भी ठप रहीं। केवल हंदवाड़ा और कुपवाड़ा में मोबाइल सेवाएं चालू रहीं। घाटी में इंटरनेट सेवाएं भी बंद रहीं।

उनके मुताबिक अधिकारी उचित समय पर मोबाइल और इंटरनेट सेवाएं बहाल करने पर विचार करेंगे।

DO NOT MISS