General News

PDP की गद्दारों से हमदर्दी, सांसद मीर मोहम्मद फैयाज़ ने PM को चिट्ठी लिख मांगे आतंकी अफजल गुरु के अवशेष

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

भारत देश के लोकतंत्र का मंदिर कहा जाने वाले संसद भवन पर हमले के दोषी आतंकी अफज़ल गुरू के प्रति पीडीपी एक बार फिर हमदर्दी दिखा रही है। इस बार महबूबा मुफ्ती की पार्टी से राज्यसभा सांसद मीर मोहम्मद फैयाज़ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आतंकी अफज़ल गुरू के शव का आवशेष की मांग की है।

PDP सांसद मीर मोहम्मद फैयाज़ ने 400 शब्दों की चिट्ठी लिखी है। जिसमें साफ तौर पर ये कहा गया है कि अफ़ज़ल गुरु की डेड बॉडी लौटाई जाए। ऐसे में राजनीतिक गलियारों में धमाका होना लाज़मी है। बीजेपी समेत कई दल इसे लेकर अपनी नाराजगी जाहिर कर रहे हैं तो वहीं कुछ सियासी पार्टियां इसके समर्थन में उतर आई हैं।

लेकिन इन सबके बीच रिपब्लिक भारत डंके की चोट पर कुछ सवाल करता हैं। 

  • जिसने संसद पर हमला किया एक सांसद उसके साथ कैसे?
  • 9 लोगों के हत्यारे को शहीद बनाना चाहती हैं महबूबा?
  • जो संसद पर हमला करे उसके साथ शहीदों वाला सलूक कैसे?
  • आतंकी का सम्मान और सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल कैसे?

बता दें, संसद पर हुए हमले में 9 लोगों की जान चली गई थी। 9 फरवरी 2013 को को आतंकी अफज़ल गुरू को तिहाड़ जेल में फांसी दी गई थी। जिसके बाद उसके शव को तिहाड़ में ही दफना दिया गया।

PDP सांसद की मांग

  • अफ़ज़ल गुरु की डेड बाडी लौटाई जाए
  • तिहाड़ जेल में दफ़्न है अफ़ज़ल गुरु
  • डेड बॉडी लौटाने से सरकार का इनकार
  • सबसे बड़े लोकतंत्र में ऐसा कैसे संभव?
  • मुफ्ती मोहम्मद सईद ने भी की थी यही मांग
  • इससे गुरु के परिवार का दर्द काम होगा
  • PDP उस परिवार की भावनाओं के साथ
  • डेड बॉडी देश के लिए ख़तरा कैसे?

रिपब्लिक भारत पर पूछता है भारत में अर्नब गोस्वामी से बात करते हुए बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने इसके लिए पीडीपी को खूब खरी-खोटी सुनाई। उन्होंने कहा कि ये जो 400 पन्नों की चिट्ठी है उसे फाड़कर फेंक देना चाहिए। गद्दारों के सवालों का कोई जवाब नहीं देना चाहिए।

फिलहाल ये वाकई सोचने वाली बोत है कि जिस आतंकी ने लोकतंत्र के मंदिर पर अंधाधुंध फायरिंग करते हुए देश को दहलाने की साजिश को अंजाम दिया, भला उसके प्रति हमदर्दी कैसे जाग सकती है?

DO NOT MISS