General News

VIDEO-'परीक्षा पे चर्चा' कार्यक्रम में बेटे के गेम खेलने की आदत से परेशान मां से PM मोदी बोले- ये PUBG वाला है क्या ?

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में दो हजार से ज्यादा छात्रों से रुबरु हुए।  दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में 'परीक्षा पे चर्चा' कार्यक्रम में पीएम मोदी परीक्षार्थियों को तनाव से उबरने का मंत्र दिया| इस दौरान पीएम मोदी ने कहा परीक्षा का महत्व है , लेकिन अगर हम ये सोचें कि यह जिंदगी की परीक्षा नहीं है तो हमारा भार कम हो जाएगा।  इस परीक्षा के बाहर भी जिंदगी है।  परीक्षा को एक अवसर मानें और इसका आनंद उठाएं । 

वहीं इस कार्यक्रम में शिरकत करने वाले एक परीक्षार्थी के अभिवाक ने पीएम मोदी से कहा कि पहले मेरा बेटा पढाई में ठीक था, लेकिन आजकल ऑनलाइन गेम्स की वजह से वो कमजोर हो गया है।  इस पीएम मोदी ने कहा , 'ये PUBG वाला है क्या' । पीएम मोदी ने इस जवाब पर पूरा स्टेडियम तालियों से गूंज उठा।

 प्रधानमंत्री ने अभिभावकों को भी सलाह दी और करा कि बच्चों पर अपने सपने ने थोपें क्योंकि दबाव में बच्चे बिखर जातै हैं, अगर बच्चा असफल भी होता है तो मां - बाप उनका हौसला बढाएं।  जोश स्टेटस की वजह से दबाव न पालें।  

परीक्षा पे चर्चा  पीएम मोदी ने कई अहम  बातें कहीं।  उन्होंने कहा, ''अभिभावकों को अपने बच्चों को टेक्नॉलजी के सही इस्तेमाल के बारे में जानकारी देनी चाहिए।  तभी बच्चे प्ले स्टेशन छोड़कर प्ले ग्राउंड की ओर जाएंगे। '' जिंदगी का मतलब ठहराव नहीं है , जिंदगी का मतलब ही होता है गति।  

लोग कहते हैं मोदी ने बहुत आकांक्षाएं जगा दी हैं, मैं चाहता हूं कि सवा सौ करोड़ देशवासियों की सवा सौ करोड़ आकांक्षाएं होनी चाहिए।  


लोग कहते हैं मोदी ने बहुच आकांक्षाएं जगा दी हैं, मैं चाहता हूं कि सवा सौ करोड़ देशवासियों की सवा सौ करोड़ आकांक्षाएं होनी चाहिए।  हमें आकांक्षाओं को उजागर करना चाहिए , देश तभी चलता है।  अपेक्षाओं के बोझ में दबना नहीं चाहिए।  हमें अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए अपने आपको सिद्ध करना चाहिए।  

निराशा में डूबा समाज , परिवार या व्यक्ति किसी का भला नहीं कर सकता है, आशा और अपेक्षा उर्ध्व गति के लिए अनिवार्य होती है।  उन्होंने आगे बच्चों से कहा कि लक्ष्य ऐसा होना चाहिए जो पहुंच में तो हो , पर पकड़ में न हो ,जब हमारा लक्ष्य पकड़ में आ जाएगा तो उसी से हमें नए लक्ष्य की प्रेरणा लेनी चाहिए ।
 

DO NOT MISS