General News

हर बार परास्त हुआ पाक, आजादी के बाद 1965, 1971 और 1999 की जंग में भारत ने चटाई धूल.. देखें यहां

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

इतिहास गवाह है, पाकिस्तान ने जब जब भारत की तरफ आंख उठाने की कोशिश की उसे परास्त होना पड़ा है। अब तक जितनी बार भी पाकिस्तान ने भारत से युद्ध की कोशिश की पाकिस्तान हर बार हारा है। चाहें वो आजादी का युद्ध हो.. या फिर  1965, 1971 और 1999 की जंग में पाकिस्तान के पिटने का नतीजा।

भारत और पाकिस्तान के बीच अब तक चार बार युद्ध हुए, चारों बार पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी, हर बार पाकिस्तान परास्त हुआ लेकिन पाकिस्तान है कि मानता नहीं। आपको सिलसिलेवार तरीके से भारत और पाकिस्तान के बीच हर बार हुए युद्ध की दास्तां बताते हैं।

हर बार परास्त हुआ है पाक 

  • 1965 में पाकिस्तान को धूल चटाई
  • 1971 में पिट गया पाकिस्तान 
  • 1999 में भी हारा पाकिस्तान 

सबसे पहले 1947 में बंटवारे की जंग के वक्त भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ,  बंटवारे की जंग के वक्त से चला आ रहा नदियों के विवाद ने 1965 तक बड़ा रूप ले लिया और 1665 में भारत और पाकिस्तान में जंग हुई। 

1665 में पाकिस्तान के कच्छ सीमा के पास हमला किया, भारत ने मामला संयुक्त राष्ट्र में उठाया। इसे भारत की कमजोरी समझते हुए पाकिस्तान ने कश्मीर में उपद्रव मचाने की कोशिश की। 5 अगस्त 1965 को पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा LOC पर सेना को तैनात कर दिया था। जिसके बाद भारत ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया। संयुक्त राष्ट्र के हस्तक्षेप के बाद युद्ध समाप्त हुआ और ताशकंद घोषणा को जारी किया गया। ये युद्ध 22 दिन तक चला, इस जंग में पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी।

अब आपको इस युद्ध का पूरा खाका समझाते हैं...

1965 में परास्त हुआ पाकिस्तान

  • पाकिस्तान के 150 टैंक तबाह हो गए
  • करीब 3800 से ज्यादा पाकिस्तानी सैनिक मारे गए
  • 73 पाकिस्तानी वायुयान नष्ट हुए
  • भारत ने 710 वर्ग मील पाकिस्तानी जमीन पर कब्जा किया 

ताशकंद घोषणा के बाद दोनों ही देशों का मोहभंग हो गया था और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री जेड. ए. भुट्टो ने चीन को पाक अधिकृत कश्मीर के गिलगित में सड़क का इस्तेमाल करने की इजाजत दे दी। विवाद गंगा के पानी के इस्तेमाल और फरक्का बांध के निर्माण को लेकर भी हुआ था। जिसके बाद दोनों देशों के संबंध निचले स्तर पर थे।

इसके बाद साल 1971 में पूर्व बंगाल के शेख मुजीबुर रहमान को प्रमुख न बनाने की वजह से विवाद बड़ा, रहमान की पार्टी ने 1970 में हुए चुनावों में 300 सीटों में से 160 सीटें जीती थीं। पाकिस्तानी नेता जेड.ए. भुट्टो और राष्ट्रपति याहया खान ने पूर्व बंगाल को अधिकार देने से इनकार कर दिया था। पाकिस्तान ने कश्मीर में भारतीय हवाईअड्डों पर हमला किया, तो भारत ने पूर्व और पश्चिम दोनों ही पाकिस्तान पर हमला बोल दिया। महज तेरह दिन के भीतर पाकिस्तान को इस युद्ध में मुंह की खानी पड़ी।

1971 में पिट गया पाकिस्तान

  • भारत के सामने पाकिस्तान ने घुटने टेक दिए
  • 90 हजार से ज्यादा पाकिस्तानी सैनिकों ने सरेंडर कर दिया
  • 9 हजार से ज्यादा पाकिस्तानी सैनिक मारे गए 
  • पाकिस्तान का मुख्य बंदरगाह धवस्त किया गया 
  • पाकिस्तान के ईधन टैंक को नष्ट कर दिया गया 
  • 94 पाकिस्तानी वायुसेना विमान नष्ट किए गए 
  • भारत ने पूर्वी हिस्से पर कब्जा कर लिया 
  • 6 दिसंबर 1971 को बांग्लादेश स्वतंत्र देश बन गया

इसके बाद जून 1972 में दोनों देशों के बीच शांति और व्यवस्था बहाली के लिए शिमला समझौते पर हस्ताक्षर किया गया।

1999 में कारगिल युद्ध

जम्मू और कश्मीर के कारगिल जिले और नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तान के सैनिकों और कश्मीरी आतंकवादियों की घुसपैठ इस युद्ध की वजह थी।

लद्दाख की भारतीय सीमा को राज्य के उत्तरी इलाके से अलग करने वाले इस इलाके में घुसपैठ ने भारतीय सेना को चौंका दिया और कारगिल क्षेत्र से दुश्मनों को निकाल बाहर करने के लिए तत्काल ऑपरेशन विजय चलाया गया। द्रास– कारगिल क्षेत्र की सबसे उंची चोटियों में से एक टाइगर हिल युद्ध का केंद्र बिन्दु बना भारतीय वायु सेना ने युद्ध में अहम भूमिका निभाई 60 से अधिक दिनों तक चले इस युद्ध में भारत ने क्या-क्या फतेह किया यहां देखें...

करगिल में भी पिट गया पाकिस्तान

  • भारत ने टाइगर हिल पर अपना कब्जा जमाया 
  • पाकिस्तानी सेना को उनकी सीमा में वापस भेज दिया
  • कागरिल में पाकिस्तान के 600 से ज्यादा सैनिक मारे गए 
  • 1 युद्धबंदी, 1 लड़ाकू विमान और 1 हेलिकॉफ्टर को मार गिराया 

गौरतलब है कि एक बार फिर पाकिस्तान के साथ युद्ध जैसे हालात है इस बार सत्ता में मोदी सरकार है जिसने मन बना लिया है इस बार पाकिस्तान को उसकी असली औकात बताने की जिसके बाद पाकिस्तान कभी भी भारत के खिलाफ आंख उठाने की जहमत तक न उठा पाए।

DO NOT MISS