General News

साल में एक बार पुराने कार्यकर्ताओं का करायें मिलन समारोह : PM मोदी

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को भाजपा कार्यकर्ताओं को सुझाव दिया कि वे पुराने कार्यकर्ताओं की सूची तैयार कर साल में कम से कम एक बार उनका मिलन समारोह करायें ।

मोदी अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के कार्यकर्ताओं से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद कर रहे थे । उन्होंने कहा, 'हमारी पार्टी अचानक नहीं बनी है, चार चार पीढी तक कार्यकर्ताओं ने अथाह परिश्रम किया है । परिवार के परिवार खपा दिये हैं । तब जाकर हमने लोगों का विश्वास पाया है ।'

उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं को सुझाव दिया, 'पुराने कार्यकर्ताओं की सूची बनायें । तय करें कि साल में एक बार इन सबका मिलन समारोह करेंगे ।'

मोदी ने कार्यकर्ताओं से कहा कि उन्हें समूह में पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओं के घर जाना चाहिए । उनके साथ कार्य करेंगे तो आपके अगल बगल से आपको प्रेरणा मिलेगी । पुराने कार्यकर्ताओं से पार्टी का इतिहास पूछना चाहिए ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी जागरूक कार्यकर्ताओं का काम है कि अगल बगल में जितने परिवार रहते हैं, उन्हें सरकारी योजनाओं के बारे में बतायें । हकदार लोगों को पता नहीं होता कि सरकार उनके लिए कौन सी योजनाएं चला रही है । ऐसे में थोडा सा उनसे संपर्क कर उन्हें बतायें । सरकार की सामाजिक सुरक्षा स्कीमों के बारे में बतायें ।

उन्होंने कहा कि अगर हम देशवासियों की मूलभूत समस्याओं का समाधान करते हैं तो देशवासी देश को आगे बढाने में बहुत बडा काम कर सकते हैं ।

मोदी ने कहा, 'काशी की गलियां काशी की आन बान शान हैं । किस प्रकार बाबा भोलेनाथ के दर्शन के लिए इन गलियों से गुजरने में मुश्किल हो जाती थी । मां गंगा के दर्शन में भी रूकावटें होती थीं । अतिक्रमण हो गया था ।'

उन्होंने कहा कि काशी विश्वनाथ धाम कारिडार से वहां जो बदलाव आ रहा है, उस पर देश के कोने कोने से आने वाले यात्री खुशी व्यक्त करते हैं । इतना बडा काम सरकार या प्रशासन की वजह से संभव नहीं हुआ । तीन सौ परिवारों ने अपनी पुश्तैनी प्रापर्टी सौंपकर योगदान दिया है । काशीवासियों के सहयोग के बिना ये निर्माण संभव नहीं हो सकता था ।

मोदी ने कहा कि इस प्रक्रिया में दर्जनों प्राचीन मंदिर, जो दबे पडे थे, ये सब बाहर निकलकर आये । इसके कारण नयी काशी की पहचान हुई । अधिकतर लोगों को अब पता चला है कि काशी में बाबा का पूरा दरबार मौजूद है ।

(इनपुट- भाषा)

DO NOT MISS