PC- Twitter/@ICC
PC- Twitter/@ICC

General News

कोई नहीं कह सकता कि हम कमजोर आस्ट्रेलियाई टीम से खेले : रवि शास्त्री

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:


मुख्य कोच रवि शास्त्री ने वनडे श्रृंखला जीतने के बाद पिछले साल आस्ट्रेलिया पर भारत की टेस्ट श्रृंखला में जीत की सराहना नहीं करने वाले आलोचकों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि अब कोई नहीं कह सकता कि हम कमजोर आस्ट्रेलियाई टीम से खेले ।

कप्तान विराट कोहली की अगुवाई में भारत ने आस्ट्रेलियाई सरजमीं पर पहली टेस्ट श्रृंखला जीती थी । आस्ट्रेलियाई टीम में उस समय डेविड वार्नर और स्टीव स्मिथ नहीं थे ।

शास्त्री ने तीसरे वनडे में भारत की सात विकेट से जीत के बाद कहा ,‘‘ इस टीम ने शानदार प्रदर्शन किया । कोई नहीं कह सकता कि हम कमजोर आस्ट्रेलियाई टीम से हारे । मुंबई में हारने के बाद लगातार दो मैच जीतना और इतनी यात्रा के बीच जबकि आस्ट्रेलिया ने तीनों मैचों में टास जीता ।’’

आस्ट्रेलिया में भारत की टेस्ट श्रृंखला में जीत के बाद बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली समेत कइयों ने कहा था कि यह पूरी मजबूत आस्ट्रेलियाई टीम नहीं थी । इस बार हालांकि जिस आस्ट्रेलियाई टीम को भारत ने हराया, उसमें स्मिथ और वार्नर दोनों थे ।

बता दें मोहम्मद शमी की अगुवाई में अपने गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन के बाद ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा के शतक और कप्तान विराट कोहली के 89 रन की मदद से भारत ने निर्णायक तीसरे एक दिवसीय क्रिकेट मैच में आस्ट्रेलिया को सात विकेट से हराकर श्रृंखला 2 . 1 से जीत ली ।

इससे पहले स्टीव स्मिथ के नौवे वनडे शतक के बावजूद भारत ने आखिरी दस ओवर में शानदार वापसी करते हुए आस्ट्रेलिया को नौ विकेट पर 286 रन पर रोक दिया । जवाब में एम चिन्नास्वामी स्टेडियम की आसान पिच पर 15 गेंद बाकी रहते जीत दर्ज की ।

फार्म में चल रहे केएल राहुल (19) के जल्दी आउट होने के बाद रोहित और कोहली ने दूसरे विकेट के लिये 137 रन की साझेदारी करके भारत की जीत का मार्ग प्रशस्त किया । आस्ट्रेलियाई पारी के दौरान शिखर धवन के चोटिल होने के कारण राहुल ने रोहित के साथ पारी का आगाज किया ।

पहले दो मैचों में 10 और 42 रन ही बना सके रोहित ने लय में लौटते हुए 128 गेंद में 119 रन बनाये । इसमें आठ चौके और छह छक्के शामिल थे । इसके साथ ही उन्होंने एक दिवसीय क्रिकेट में 9000 रन भी पूरे कर लिये ।

वहीं कप्तान कोहली ने लगातार दूसरी अर्धशतकीय पारी खेलते हुए 91 गेंद में आठ चौकों की मदद से 89 रन बनाये । श्रेयस अय्यर 35 गेंद में छह चौकों और एक छक्के के साथ 44 रन बनाकर नाबाद रहे । मनीष पांडे ने 48वें ओवर की पहली और तीसरी गेंद पर जोश हेजलवुड को चौका लगाकर भारत को जीत दिलाई ।

इससे पहले आस्ट्रेलिया के लिये स्मिथ ने 132 गेंद में 131 रन बनाये लेकिन उन्हें दूसरे छोर से सहयोग नहीं मिल सका । उनके अलावा मार्नस लाबुशेन ने 64 गेंद में 54 रन बनाये ।

मोहम्मद शमी ने डैथ ओवरों में शानदार गेंदबाजी करते हुए तीन विकेट चटकाये । उन्होंने दस ओवर में 63 रन देकर चार विकेट लिये । आस्ट्रेलिया ने आखिरी दस ओवर में 63 रन के भीतर पांच विकेट खोये ।

इससे पहले लगातार तीसरी बार आस्ट्रेलिया ने टास जीता लेकिन इस बार बल्लेबाजी का फैसला किया ।

कोहली ने पिछला मैच जीतने वाली टीम में कोई बदलाव नहीं किया हालांकि ऋषभ पंत चयन के लिये उपलब्ध थे । के एल राहुल लगातार दूसरे मैच में विशेषज्ञ विकेटकीपर के रूप में उतरे ।

आस्ट्रेलिया ने फार्म में चल रहे सलामी बल्लेबाजों डेविड वार्नर (तीन) और आरोन फिंच (19) के विकेट जल्दी गंवा दिये । शमी ने वार्नर को बाहर जाती बेहतरीन गेंद पर पवेलियन भेजा ।

दूसरी ओर फिंच के रन आउट के लिये स्मिथ कसूरवार रहे जिन्होंने कप्तान को रन लेने के लिये बुलाया लेकिन बाद में मन बदल लिया । आम तौर पर शांतचित्त रहने वाले फिंच गुस्से में बुदबुदाते हुए ड्रेसिंग रूम की तरफ गए ।

पहले पावरप्ले में आस्ट्रेलिया ने दो विकेट पर 56 रन बनाये जब स्मिथ और लाबुशेन क्रीज पर थे । दोनों ने 127 रन की साझेदारी में जबर्दस्त आपसी तालमेल का परिचय दिया ।

राजकोट वनडे में 46 रन बनाने वाले लाबुशेन ने यहां अर्धशतक बनाया । वह बड़ी पारी की ओर अग्रसर लग रहे थे लेकिन विराट कोहली ने कवर में डाइव लगाकर उनका दर्शनीय कैच लपका ।

रविंद्र जडेजा ने ओवर में दूसरा विकेट लिया जब एलेक्स कारे से पहले भेजे गए मिशेल स्टार्क ने डीप मिडविकेट में कैच थमाया । आस्ट्रेलिया का स्कोर इस समय 32 ओवर में चार विकेट पर 173 रन था ।

दूसरे छोर पर स्मिथ अच्छा खेल रहे थे लेकिन 300 रन पार करने के लिये आस्ट्रेलिया को अच्छी साझेदारी की जरूरत थी । स्मिथ और कारे (35) ने पांचवें विकेट के लिये 58 रन जोड़े लेकिन कारे ज्यादा देर टिक नहीं सके ।

शुक्रवार को शतक से दो रन से चूके स्मिथ ने थर्डमैन पर एक रन लेकर तिहरा अंक छुआ । यह तीन साल में वनडे क्रिकेट में उनका पहला शतक है । उन्होंने 46वें ओवर में नवदीप सैनी को एक छक्का और एक चौका लगाया ।

इसके बाद जसप्रीत बुमराह को लगातार दो चौके लगाये । वह डीप मिडविकेट पर श्रेयस अय्यर को कैच देकर लौटे ।

शमी ने आखिरी ओवरों में पैट कमिंस और एडम जाम्पा को बोल्ड किया ।


 

DO NOT MISS