General News

निर्भया मामला: पीड़िता की मां ने न्यायालय में दोषी की पुनर्विचार याचिका का विरोध किया

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

दिल्ली में वर्ष 2012 में हुए सामूहिक दुष्कर्म मामले में पीड़िता की मां ने उच्चतम न्यायालय का रुख कर मौत की सजा पाए चार दोषियों में से एक की पुनर्विचार याचिका का विरोध किया। इस याचिका पर 17 दिसंबर को सुनवाई की जानी है।

पीड़िता की मां की तरफ से पेश हुए वकील ने प्रधान न्यायाधीश एस.ए. बोबडे की अध्यक्षता वाली एक पीठ के समक्ष इस मामले का जिक्र किया और इस मामले के एक दोषी अक्षय कुमार सिंह की पुनर्विचार याचिका का विरोध किया। इस पुनर्विचार याचिका पर 17 दिसंबर को तीन न्यायाधीशों वाली पीठ सुनवाई करेगी।

उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल नौ जुलाई को तीन अन्य दोषियों की पुनर्विचार याचिका को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि वर्ष 2017 की सजा पर पुनर्विचार करने का कोई आधार नहीं है।

गौरतलब है कि 16-17 दिसंबर 2012 की दरमियानी रात दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में छह लोगों ने 23 वर्षीय एक छात्रा का सामूहिक बलात्कार किया था। बर्बरता के बाद उसे सड़क पर फेंक दिया था।

बर्बर हमले की शिकार छात्रा को निर्भया नाम दिया गया था। उसने 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था।
साल 2012 में हुए इंसानियत को शर्मसार करने देने वाला निर्भया कांड में पीड़िता के परिवार समेत पूरे देश को इंसाफ का इंतजार है। 7 साल पहले हुए इस कांड के गुनाहगारों को अभी तक फांसी नहीं हो पाई है, क्योंकि चारों दोषियों को फांसी देने वाली दया याचिका पर अभी राष्ट्रपति की ओर से अंतिम फैसला नहीं आ पाया है लेकिन इनदिनों तिहाड़ जेल की गतिविधी पर नजर डाले तो लग रहा है कि दोषियों को फांसी देने की तैयारी जोरों- शरों से चल रही है।  

खबर ये है कि निर्भया के दोषियों को लेकर तिहाड़ प्रशासन अलर्ट पर है। निर्भया के सभी दोषियों को एक ही सेल में रखा गया है यानी चारों दोषियों को एक साथ रखा गया है,जिन पर तिहाड़ जेल प्रशासन की पैनी नजर है। उनपर नजर रखने के लिए 8 सदस्यों की एक टीम बनाई गई है,चारों दोषियों को डॉक्टर की निगरानी में भी रखा जा रहा है। यहां तक कि दोषियों को अकेले बाथरूम तक नहीं जाने दिया जा रहा। 
माना जा रहा है बहुत जल्द इन्हें फांसी दी जाने वाली है और ये उसी की तैयारी है। जेल प्रशासन को बस अगले आदेश का इंतजार है या यूं कहें कि सभी दरिंदों के डेथ वॉ़रंट का इंतजार हो रहा है।

निर्भया को इंसाफ मिलने ही वाला है 7 साल के लंबे इंतजार के बाद अब निर्भया के कातिलों को फांसी देने की तैयारी हो रही है ।  उत्तर प्रदेश के डीजी जेल ने रिपब्लिक भारत से बातचीत में साफ किया कि तिहाड़ जेल ने उनसे फौरन दो जल्लाद की मांग की है बिहार के बक्सर जेल से फांसी का फंदा तैयार हो चुका है। उत्तर प्रदेश से जल्लाद भी मांगा गया है, जाहिर है ये सारी बातें ये बताती हैं कि फांसी की तैयारी तेजी से चल रही है। जेल प्रशासन को अब सिर्फ डेथ वॉरंट का इंतजार है । 
 
रिपब्लिक भारत लगातार मुहिम चला रहा है कि निर्भया के दरिंदों को फांसी दो और उनकी तस्वीर देश के सामने रखा जाए ताकि ऐसे दरिंद़ों के अंदर खौफ पैदा हो सके। वे ऐसी किसी भी वारदात को अंजाम देने से पहले 100 बार सोचें।

DO NOT MISS