General News

कश्मीर मुद्दे के हल के लिये करतारपुर जैसी पहल की जरूरत : महबूबा

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को कहा कि कश्मीर मुद्दे का हल हिंसा और रक्तपात के बजाए ‘‘करतारपुर जैसी पहल’’ के जरिये किया जा सकता है . पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष ने कहा कि जम्मू कश्मीर समस्या के समाधान के लिये साहसिक, ईमानदार और मानवीय पहल की जरूरत है .  मुंबई हमला (2008) के 10 साल पूरे होने के दिन इस गलियारे के शिलान्यास का गवाह बनना काफी मायने रखता है. 

गौरतलब है कि उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को करतारपुर साहिब गलियारा की आधारशिला भारतीय सरजमीं पर रखी. इसके निर्माण से सिख श्रद्धालुओं के पाकिस्तान स्थित ऐतिहासिक गुरुद्वारा दरबार साहिब जाने में सुविधा होगी. यह गलियारा बनाने का फैसला केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 22 नवंबर को लिया गया था. 

महबूबा ने बयान में आगे कहा कि पाकिस्तान द्वारा लिया गया फैसला सराहनीय है और हमारे नेतृत्व ने भी वही गरिमा और राजनीतिक गंभीरता दिखाई है.

उन्होंने कहा कि करतारपुर गलियारा खोलने का फैसला कर देश के नेतृत्व ने राजनीतिक गंभीरता प्रदर्शित की है वह भी तब जब देश में कुछ राज्यों में चुनाव हो रहे हैं.

 

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान करतारपुर गलियारे के लिये 28 नवंबर को पाकिस्तान की सरजमीं पर इसकी आधारशिला रखेंगे. 

पाकिस्तान ने इस कॉरिडोर के आधारशिला कार्यक्रम को लेकर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने को न्योता दिया था. लेकिन दोनों ने इसे न्योंते को अस्वीकार कर दिया है. हालांकि , भारत सरकार की ओर से हरसिमरत कौर पाकिस्तान जाएंगी. इसी मुद्दे पर इशारों - इशारों में कैप्टन अमरिंदर ने उन्हें निशाने पर लिया. 


इसपर  केंद्रिय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि, '  सिद्धू ने वहां जाकर हमारे जवानो को मारने वाले पाक चीफ को गले लगाया था .  मैं वहां अपने देश का प्रतिनिधित्वत करने जा रही हूं . अमन और शांत के लिए. 

इधर पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने गेंद विदेश मंत्रालय के पाले में डाल दी है. उन्होंने कहा कि मैं पाकिस्तान जाने को उत्साहित हूं, हमने विदेश मंत्रालय से इसके लिए अनुमति मांगी है. 

( इनपुट - भाषा से भी )

 

DO NOT MISS