General News

बल्ला कांड से जुड़े MLA आकाश विजयवर्गीय ने महिला पुलिस अफसर के स्थानांतरण के खिलाफ मोर्चा खोला

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

सरकारी अफसर को क्रिकेट बल्ले से सरेआम पीटने के बहुचर्चित मामले में आरोपों का सामना कर रहे स्थानीय भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय ने यातायात पुलिस की एक महिलाकर्मी के तबादले को लेकर बुधवार को मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार के खिलाफ हमला बोला । 

विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि यातायात पुलिस की सूबेदार सोनू बाजपेयी का तबादला इंदौर से छतरपुर महज इसलिये कर दिया गया, क्योंकि उन्होंने प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री सज्जनसिंह वर्मा के भतीजे को यहां चारपहिया गाड़ी चलाते वक्त मोबाइल फोन पर बात करते देख रोकने की "जुर्रत" की थी। 

यह भी पढ़ें - VIDEO: जिस घर के लिए आकाश विजयवर्गीय ने चलाए थे 'अधिकारी पर बल्ले', उसे नगर निगम ने ऐसे किया जमींदोज

भाजपा के 34 वर्षीय विधायक ने कहा, "बाजपेयी ने लोक निर्माण मंत्री के भतीजे अभय वर्मा को उस वक्त रोका, जब वह यातायात नियमों के खिलाफ फोन पर बात करते हुए चारपहिया गाड़ी चला रहे थे। इस मामले में अपने फर्ज को ईमानदारी से अंजाम देने पर यातायात पुलिस की महिला अधिकारी का आखिरकार तबादला कर दिया गया है।" 

उन्होंने प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर "तबादला उद्योग" चलाने का आरोप लगाते हुए कहा, "बाजपेयी के स्थानांतरण से ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी बेहद हतोत्साहित होंगे। लिहाजा हमने सूबे के राज्यपाल लालजी टंडन को ज्ञापन भेजकर मांग की है कि महिला पुलिस अधिकारी के स्थानांतरण आदेश पर तत्काल रोक लगायी जाये।" 

यह भी पढ़ें - बल्ला कांड के आरोपी BJP विधायक के बचाव में उतरे पिता कैलाश विजयवर्गीय, कहा- 'झगडा किया तो किसी बिल्डर के लिए नहीं, बल्कि विकलांग महिला के लिए'

उधर, राज्य के लोक निर्माण मंत्री के भतीजे अभय वर्मा ने भाजपा विधायक के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि महिला पुलिस अफसर के तबादले से उनका कोई लेना-देना नहीं है।

राजीव गांधी चौराहे पर अभय वर्मा की चारपहिया गाड़ी 14 अप्रैल को रोके जाने के बाद यातायात पुलिस की सूबेदार के साथ उनकी तीखी बहस को लेकर सोशल मीडिया पर कई वीडियो वायरल हुए थे । 

यह भी पढ़ें - जमानत पर रिहा हुए बल्ला कांड के आरोपी BJP विधायक आकाश विजयवर्गीय ने कहा - 'भगवान मुझे दोबारा बल्लेबाजी करने का अवसर न दे'

DO NOT MISS