General News

मिजोरम विधानसभा के अध्यक्ष हिफेई ने दिया इस्तीफा, BJP में हुए शामिल

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

मिजोरम विधानसभा के अध्यक्ष हिफेई ने सोमवार को कहा कि उन्होंने अपने पद, सदन और कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया और भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं .

गौरतलब है कि हिफेई प्रदेश में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी और पद दोनों छोड़ रहे हैं .

कांग्रेस से सात बार विधायक रहे हिफेई ने अपना इस्तीफा विधानसभा उपाध्यक्ष आर. लालरीनवमा को सौंपा जिन्होंने उसे स्वीकार कर लिया है .

वहीं से हिफेई कांग्रेस के कार्यालय गए और वहां पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया .

सितंबर से अभी तक 40 सदस्यीय विधानसभा से इस्तीफा देने वाले हिफेई कांग्रेस के पांचवें विधायक हैं . अनुभवी नेता हिफेई 2013 में पलक विधानसभा क्षेत्र से चुनकर 40 सदस्यीय विधानसभा में पहुंचे .पूर्वोत्तर में मिजोरम एकमात्र कांग्रेस शासित राज्य है .

गुवाहाटी में पूर्वोत्तर जनतांत्रिक गठबंधन (एनईडीए) के समन्वयक और भाजपा नेता हिमंत बिस्व शर्मा ने पहले कहा था कि कि हिफेई (81) उनकी उपस्थिति में मिजोरम की राजधानी आइजोल में भाजपा में शामिल होंगे .

असम के वित्त मंत्री शर्मा ने कहा, ‘‘वह बहुत वरिष्ठ नेता हैं. उनके भाजपा में शामिल होने से पार्टी मजबूत होगी .’’ 

बता दें नॉर्थ ईस्ट में मिजोरम एकमात्र कांग्रेस शासित राज्य है . जहां 28 नवंबर को विधानसभा चुनाव होने हैं, इसी दिन मध्यप्रदेश में भी वोटिंग होनी है. 

चुनावी माहौल में सत्ताधारी कांग्रेस ने भी मुख्य विपक्षी दल मिजो नैशनल फ्रंट की तरह सभी 40 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. हाल ही में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी मिजोरम में चुनावी अभियान शुरू किया था. 

यह भी पढ़े -राम माधव ने कहा, 'BJP मिजोरम चुनाव अकेले लड़ेगी' 

मिजोरम पूर्वोतर का अकेला ऐसा राज है जहां कांग्रेस अब भी सत्ता में काबिज है. कांग्रेस ने दावा किया हैकि यह देश का सबसे शांत प्रदेशों में से एक है और यहां की आर्थिक हालात में काफी सुधर चुकी है. 


वहीं बीजेपी , एमएनएफ और अन्य विपक्षी दल बदलाव का नारा दे रहे हैं. बीजेपी वंशवाद और भ्रष्ट्राचार को लेकर कांग्रेस पर हमला बोल रही है. 

यह भी पढ़े - असम में 5 लोगों की हत्या का मामला: कुछ जिलों में बंद का रहा असर, 1200 प्रदर्शनकारी हिरासत में...

DO NOT MISS