General News

उन्नाव बलात्कार पीड़िता और उसके परिवार की व्यथा सरकार को लज्जित करने वाली : मायावती

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने शुक्रवार को कहा कि उन्नाव बलात्कार पीड़िता और उसके परिवार की व्यथा अक्षम्य और सरकार को लज्जित करने वाली है ।

मायावती ने ट्वीट किया, 'उन्नाव रेप पीड़िता व उसके परिवार की सत्ता शक्ति द्वारा जो दुःख/व्यथा है वह अक्षम्य व सरकार को लज्जित करने वाला है जिसकी क्षतिपूर्ति नहीं हो सकती है ।' 

उन्होंने कहा, 'फिर भी सुप्रीम कोर्ट ने जो हस्तक्षेप किया है, वे उसके लिए बधाई के पात्र हैं लेकिन दोषियों को सख्त सजा मिलने पर ही इंसाफ हो पाएगा ।' 

उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने गुरूवार को उन्नाव बलात्कार घटना से जुडे सभी पांच मामलों को लखनऊ की अदालत से दिल्ली की अदालत में स्थानांतरित कर दिया । साथ ही निर्देश दिया कि मामलों की सुनवाई रोजाना हो तथा इसे 45 दिन में पूरा किया जाए ।

अदालत ने कहा कि सीबीआई को रायबरेली दुर्घटना की जांच सात दिन में पूरी करनी होगी । इस दुर्घटना में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गयी थी जबकि पीड़िता और उनके वकील घायल हो गये ।

पीड़िता की कार को रायबरेली जिले में 28 जुलाई को तेज रफ्तार ट्रक ने टक्कर मार दी थी ।

पीड़िता के परिवार वालों ने शिकायत दर्ज कर आरोप लगाया कि सड़क दुर्घटना के पीछे साजिश है ।

मायावती ने इससे पहले भी ट्वीट कर कहा था, 'उन्नाव बलात्कार पीड़िता व उसके परिवार की हत्या का प्रयास व मुकदमों की वापसी हेतु विधायक द्वारा धमकी का आरोप काफी गंभीर मामला है, जिसका सुप्रीम कोर्ट द्वारा संज्ञान लिया जाना अति-स्वागत योग्य है ।' 

उन्होंने कहा, 'बसपा कोर्ट का थैंक्स अदा करती है । इससे पीड़िता को न्याय मिलने की उम्मीद जगी है ।' 

बसपा सुप्रीमो ने कहा, 'अभियुक्त विधायक को सत्ताधारी बीजेपी का लगातार संरक्षण रहा है, यह कोई लुकी-छिपी बात नहीं है । यही कारण है कि किसी न किसी बहाने रेप आदि का यह केस सीबीआई के पास होने के बावजूद काफी लम्बे समय से लम्बित पड़ा है व जिस कारण पीड़िता स्वयं नए हादसे का शिकार होकर मरणासन्न है । अति-दुःखद ।' 

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा था, 'उन्नाव रेप पीड़िता के कार की रायबरेली में ट्रक से टक्कर प्रथमदृष्टया उसे जान से मारने का षड्यंत्र लगता है जिसमें उसकी चाची व मौसी की मौत हो गई तथा वह स्वयं व उसके वकील गंभीर रूप से घायल हैं । सुप्रीम कोर्ट को इसका संझान लेकर दोषियों पर सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करनी चाहिए ।'

( इनपुट-भाषा से )
 

DO NOT MISS