General News

नहीं रहा स्कूटर पर चलने वाला कर्मवीर सीएम, यहां पढ़ें: मनोहर पर्रिकर की 15 कहानियां

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

देश का कर्मवीर मुख्यमंत्री को हमने खो दिया है। सर से लंबे समय तक लड़ने के बाद रविवार को मनोहर पर्रिकर ने अंतिम सांस ली। पर्रिकर की एक अलग पहचान थी। वो सादगी में जीवन यापन करते थे तो उतने ही साहसी थे।

यहां पढ़ें... पर्रिकर के जीवन की 15 कहानियां

01
गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर अपनी सादगी के लिए पहचाने जाते थे, मनोहर पर्रिकर की सादगी ऐसी थी कि वे बड़े-बड़े सम्मेलनों में हवाई चप्पल और हॉफ शर्ट में पहुंच जाते थे।

02
मनोहर पर्रिकर मुख्यमंत्री थे लेकिन बेहद साधारण जीवन जीते थे, मनोहर पर्रिकर को स्कूटर चलाना बेहद पसंद था। पर्रिकर अक्सर गोवा की सड़कों पर बिना किसी सुरक्षा के ताम-झाम के स्कूटर चलाते नजर आ जाते थे। इसके साथ ही मनोहर पर्रिकर स्कूटर से विधानसभा भी जाया करते थे। गोवा राज्य की जनता ने पर्रिकर का नाम स्कूटर वाले सीएम रख दिया था।

03
मनोहर पर्रिकर ऐसे पहले आईआईटीयन थे जो किसी राज्य के मुख्यमंत्री बने, पर्रिकर ने साल 1978 में आईआईटी बॉम्बे से मेटालर्जिकल इंजीनियरिंग में बीटेक किया था। साल 2001 में पर्रिकर को आईआईटी बॉम्बे ने विशिष्ट एल्यूमिनी अवॉर्ड से सम्मानित किया था।

04
करीब 25 साल के राजनीतिक जीवन में पर्रिकर पर किसी तरह के आरोप नहीं लगे, पर्रिकर की छवि देश के बेदाग नेता की थी। मनोहर पर्रिकर प्लेन में इकोनॉमी क्लॉस में ही सफर करते थे।

05
मनोहर पर्रिकर 24 अक्टूबर, 2000 को पहली बार मुख्यमंत्री बने थे, उनकी सरकार 27 फरवरी, 2002 तक चली। दूसरी बार 2002 से 2005 तक, तीसरी बार मार्च 2012 से 8 नवंबर 2014 तक और चौथी बार 2017 से अपने निधन तक पर्रिकर ने गोवा के मुख्यमंत्री का पद संभाला।

06
पर्रिकर को पैंक्रियाटिक कैंसर था। पिछले साल से उनका गोवा, मुंबई, अमेरिका और दिल्ली एम्स में इलाज चल रहा था। इसके बाद भी उन्होंने इस बार के बजट सत्र में हिस्सा लिया और 30 जनवरी को बजट पेश किया था।

07
मनोहर पर्रिकर जबरदस्त हिम्मती थे, पर्रिकर को पिछले कुछ समय में जब भी किसी योजना का शिलान्यास करते या सार्वजनिक कार्यक्रम में देखा गया, वे चिकित्सीय उपकरणों से लैस ही थे। नासोगेस्ट्रिक ट्यूब उनके चेहरे पर लगी रहती थी।

08
मनोहर पर्रिकर ने  सीएम आवास में रहने से मना कर दिया था, वे अपने परिवार के साथ एक छोटे से घर में रहा करते थे। पर्रिकर का पूरा जीवन जनता की सेवा में बीता, पर्रिकर हमेशा कहते थे कि मैं गोवा की जनता का ट्रस्टी हूं, मैं जो भी निर्णय करता हूं अगर उसमें कोई गलती है तो यह मेरा निजी नुकसान होता है,  मैं लोगों का एक भी पैसा व्यर्थ खर्च नहीं करता।

09
गोवा में एक पुल के उद्घाटन के दौरान पर्रिकर ने अपने भाषण की शुरुआत उरी फिल्म के डायलॉग हाउ इज़ द जोश से की थी, तभी वहां मौजूद लोगों ने इसका जवाब ‘हाई सर’ से दिया था।

10
पर्रिकर अपने काफिले में बिना हुटर लगी हुई गाड़ी रखते थे, एक बार बैठक के दौरान के सभी प्रोटोकाल अधिकारी उन्हें बाहर लेने के लिए खड़े हुए थे, जब अधिकारियों से गार्ड और अन्य अधिकारियों से पूछा कि साहब कहा है तो उन्होंने कहा कि साहब तो अपना थैला लेकर अंदर चले गए, सभी हैरान  थे कि अंदर जो एक साधारण आदमी गया है वह गोवा का सीएम है।

11
मनोहर पर्रिकर के रक्षा मंत्री रहते हुए भारतीय सेना ने दो बड़े ऑपरेशन को अंजाम दिया था,  2015 में म्यांमार की सीमा में भारतीय पैराकमांडो द्वारा घुसकर उग्रवादियों को मार गिराना और नवंबर 2017 में पीओके में आतंकवादियों के ठिकाने पर सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी।

12
मनोहर पर्रिकर को साधारण ढाबे या होटल में खाना खाते देखा जा सकता था, लोगों से संवाद के दौरान पर्रिकर कई बार ठेले की चाय दुकान पर ही चाय पीते आर नाश्ता करते हुए नज़र आ जाते थे।

13
जानकारों की मानें तो पर्रिकर ही पहले ऐसे व्यक्ति थे, जिन्होंने भाजपा सरकार में प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी का समर्थन किया था। इसके साथ ही वह गोवा के पहले राजनेता बने जिन्होंने केंद्र सरकार में रक्षा मंत्री का दायित्व निभाया।

14
पर्रिकर पढ़ाई के आखिरी साल में आरएसएस के प्रमुख प्रशिक्षक बन गए थे। इसके बाद उन्होंने गोवा में आरएसएस के लिए काम करना शुरू किया। मुंबई आईआईटी से पास होने के बाद उन्होंने कुछ समय तक अपना निजी व्यापार भी किया। बाद में, संघ ने उन्हें कई महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी भी दी। इस दौरान शुरू हुए रामजन्म भूमि आंदोलन में भी पर्रिकर ने अहम भूमिका निभाई।

15
गोवा का बजट पेश करने के दौरान पर्रिकर ने कहा था कि आज मैं एक बार फिर वादा करता हूं कि मैं पूरी ईमानदारी, निष्ठा और समर्पण के साथ और अपनी अंतिम सांस तक गोवा की सेवा करूंगा। मुझमें काफी जोश है और मैं पूरी तरह होश में हूं, और मनोहर पर्रिकर ने अपना वादा निभाया भी।

DO NOT MISS