General News

रिपब्लिक भारत के मुहिम का समर्थन करते हुए लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने कहा- 'दुखी होने का समय नहीं है अब पाक को सबक सिखाया जाए'

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद जहां हिंदुस्तान के लोगों में भारी आक्रोश देखने को मिल रहा है। वहीं पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग थलग करने के लिए  रिपब्लिक  भारत ने भी एक मुहिम छेड़ा है कि भारत को पाकिस्तान के साथ किसी भी तरह का व्यापार , क्रिकेट , राजनीतिक , सामरिक संबंध नहीं रखना चाहिए । हमारी इस मुहिम को पूरे देश भर से समर्थन मिल रहा है। 

रिपब्लिक भारत के मुहिम का समर्थन करते हुए लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने कहा कि 'पुलवामा में हुए आंतकी हमले के बाद देश का हर एक व्यक्ति व्यग्र हैं दुखी होने का समय नहीं है, अब पाकिस्तान को सबक सिखाने का समय है। 

मालिनी अवस्थी ने आगे कहा कि बहुत दिनों से छद्म लड़ाई चल चुकी , लेकिन जिस तरह से पुलवामा का अटैक हुआ है वह सारी सीमाओं को पार कर गया है। कोई भी संस्कृति कैसे यह सिखा सकती है कि फियादिन हमले में 40 निर्दोष व्यक्ति की आप जान ले लें और परिवार की हालत खराब कर दें । यह पागलपन है । सबसे बड़ी जिस पर मुझे घनघोर आश्चर्य होता है कि पाकिस्तान से ऐसे संबंध तो कभी भी नहीं थे , पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान व्यवहार कुशलता के नाते ही सही संवेदना प्रकट करने की जरूरत भी नहीं समझते। 

मालिनी अवस्थी ने कहा कि जिस प्रकार इमरान खान ने एक अडॉप्टेड वीडियो जारी किया उसको देख कर साफ लगता है कि वह डर गए हैं। 

रिपब्लिक भारत के मुहिम का समर्थन करते हुए मालिनी अवस्थी ने कहा कि एक गायिका होने के नाते मैं मानती हूं कि हर कलाकार और खिलाड़ी को सोचना चाहिए कि पुरी दुनिया में आपकी पहचान एक हिंदुस्तानी होने के नाते हैं। तो सबसे पहले हम इस देश के नागरीक है । इसलिए कला, खेल या किसी भी प्रकार का संबंध पुरी तरह से पाकिस्तान के साथ बंद करना चाहिए, इससे वह औकात में आ जाएंगे।  क्योंकि पाकिस्तान पुरी तरह से बर्बाद देश है। इसके बाद मालिनी अवस्थी ने लोक गीत के माध्यम से अपना दुख प्रकट किया।''

इससे पहले रिपब्लिक भारत के इस मुहिम को भारतीय बैडमिंटन टीम के राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद , भारतीय क्रिकेटर वसीम जाफर , ग्रेट खली समेत भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया ने अपना समर्थन दिया है।

पुलवामा हमले में जवानों की शहादत के बाद पूरे देश में आक्रोश, गुस्सा और नाराजगी है। शहीदों को याद करके पूरे देश की आंखें नम हो जाती हैं। ऐसे में इसके बाद आखिर क्यों भारत विश्व कप में पाकिस्तान के साथ खेलना चाहिए, पूरे देश की आवाज बनकर रिपब्लिक भारत आज ये सवाल पूछ रहा है।

रिपब्लिक भारत डंके की चोट पर ये सवाल करता है..

  • क्या देश से बड़ा होता है क्रिकेट?
  • क्या शहादत भूल कर होना चाहिए मैच?
  • शहीदों के मान से ज्यादा ज़रुरी है विश्वकप?
  • पाक के साथ क्रिकेट क्यों ज़रुरी है?
  • क्यों ना हो पाकिस्तान का बहिष्कार?
DO NOT MISS