General News

शराब की ऑनलाइन बिक्री की इजाजत वाली बात से पलटे महाराष्ट्र के मंत्री

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

महाराष्ट्र के एक मंत्री ने रविवार को कहा कि भाजपा-नीत सरकार ने राज्य में शराब की ऑनलाइन बिक्री एवं होम डिलिवरी की अनुमति देने का निर्णय किया है लेकिन बाद में बयान दिया कि इस संबंध में केवल एक प्रस्ताव प्राप्त हुआ है. आबकारी मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने मीडिया को बताया, “हम नशे में धुत्त होकर गाड़ी चलाने की घटनाओं को रोकना चाहते हैं. शराब को घर तक पहुंचाने से इसमें मदद मिलेगी.” हालांकि उन्होंने इस बारे में विस्तार से नहीं बताया कि यह निर्णय कब से प्रभावी होगा. 

हालांकि इस घोषणा को लेकर विपक्षी पार्टियों एवं शराब का विरोध करने वाले कार्यकर्ताओं की प्रतिक्रियाओं के डर से मंत्री ने बाद में कहा कि केवल एक प्रस्ताव प्राप्त हुआ है. बावनकुले ने नागपुर में संवाददाताओं से कहा, “हमें घर से शराब की ऑनलाइन खरीद के लिए एक नीति बनाने के आग्रह का आवेदन प्राप्त हुआ था. हालांकि सरकार ने इस बारे में सोचा नहीं है, न ही इस बारे में कोई नीति बनी है.” 

साथ ही उन्होंने कहा कि उनके विभाग ने हाल ही में राज्य में व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से ऑर्डर लेकर ग्राहकों के घर तक विदेशी शराब उपलब्ध कराने वाली शराब की 35 दुकानों के खिलाफ कार्रवाई भी की है. 

इससे पहले आबकारी विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मीडिया से कहा कि इस फैसले के पीछे राजस्व बढ़ाना भी एक मुख्य लक्ष्य है. उन्होंने बताया कि उच्चतम न्यायालय के आदेश के चलते राजमार्ग के समीप स्थित करीब 3,000 शराब की दुकानों के बंद होने के चलते सरकार को अच्छे खासे आबकारी कर का नुकसान उठाना पड़ रहा है.

उन्होंने कहा कि इस महीने की शुरुआत में पेट्रोल एवं डीजल की कीमतें कम करने की वजह से राज्य के कोष में थोड़ी और कमी दर्ज की गई. 

वहीं कुछ विपक्षी पार्टियां और सामाजिक संगठन शहर में शराब को पूर्ण रूप से बंद करने की भी मांग कर रहे हैं. राज्य सरकार द्वारा अगर घर-घर जाकर शराब की होम डिलीवरी दी जाती है तो इन संगठनों का उन्हें विरोध झेलना पड़ेगा.  

इसे भी पढ़ें: मुंबई के मरीन ड्राइव पर बना तमाम सुविधाओं से लैस लग्जरी टॉयलेट, कीमत जानकर रह जाएंगे हैरान

DO NOT MISS