General News

केरल नन रेप केस: जांच टीम के सामने पेश हुए बिशप फ्रैंको मुलक्कल..

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

केरल की नन के साथ कथित बलात्कार के मामले में बुधवार को फ्रैंको मुलक्कल केरल पुलिस के बीच पेश हो चुके हैं. केरल की पुलिस उनके साथ इस पूरे मामले पर पूछताछ कर रही है. बिशप के खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे ननों का कहना है कि जब तक फ्रैंको मुलक्कल को गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक वो विरोध प्रदर्शन करते रहेंगे. बता दें, पांच लोगों की टीम फ्रैंको मुलक्कल से पूछताछ कर रही है. क्राइम ब्रांच ऑफिस में सुरक्षा के कड़े इंतजाम हैं. यहीं पर फ्रैंको मुलक्कल से सवाल पूछे जा रहे हैं.

बता दें, केरल में बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ ननों के द्वारा लगातार विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. मंगलवार को केरल हाईकोर्ट ने बिशप फ्रैंको मुलक्कल के बेल को 25 सितंबर तक के लिए स्थगित कर दिया था. बिशप ने केरल हाई कोर्ट में एंटीसिपेटरी बेल याचिका दायर की थी. अपने एंटीसिपेटरी बेल में बिशप ने कहा था कि वो जांच में सहयोग करने के लिए तैयार हैं लेकिन जांच दल को उनको गिरफ्तार करने से बचना चाहिए.

बता दें, पुलिस के सूत्रों ने बिशप से अगस्त में पूछताछ के ब्योरे का खुलासा किया है. पुलिस सूत्रों ने रिपब्लिक टीवी को बताया है कि बिशप फ्रैंको के द्वारा दिए गए पहले स्टेटमेंट में 15 से ज्यादा विरोधाभास सामने आए हैं.

बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने पहले पुलिस को बताया था कि 5 मई 2014 को जब पहली बार महिला ने कथित रेप का आरोप लगाया था तब वो कुराविलंगड मिशन होम में नहीं था.. जहां पर क्राइम हुआ था.. लेकिन वो पास के ही इडुक्की डिस्ट्रिक्ट में था. इडुक्की मिशन की मदर और बिशप फ्रैंको के निजी ड्राइवर का बयान इस कथन का खंडन करते हैं. बता दें, कुराविलंगड होम का विजिटर रजिस्टर और दो अन्य नन जो वहां पर मोजूद थे उन्होंने पुलिस के सामने वहां पर बिशप फ्रैंको मुलक्कल के रहने की पुष्टि की.

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि 13 मामलों पर बिशप फ्रैंको द्वारा यौन उत्पीड़न किया गया था.. लेकिन बिशप फ्रैंको ने पूछताछ में बताया था कि वो सिर्फ कुराविलंगड  होम 9 बार ही गया है.. लेकिन विजिटर बुक में उसकी एंट्री से इस दावे की भी पोल खुल जाती है.

DO NOT MISS