General News

पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ताओं पर पुलिस की बर्बरता पर बोले विजयवर्गीय- 'अराजकता और अलोकतंत्र के बाद अब तानाशाही शुरू हो गया'

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:


कोलकाता-  भाजपा की ‘विजय संकल्प’ रैली को रोके जाने के कारण पश्चिम बंगाल में रविवार को कई जिलों में हुई झड़पों में कई पार्टी कार्यकर्ता और पुलिसकर्मी घायल हो गए।

पुलिस ने बताया कि स्कूल बोर्ड परीक्षाएं जारी रहने के दौरान जन रैलियों पर प्रतिबंध के कारण रैलियों के लिए अनुमति नहीं होने की वजह से उन्होंने मोटरसाइकिल रैली को रोका।

भाजपा कार्यकर्ताओं और पुलिसकर्मियों के बीच पश्चिम वर्द्धमान जिले में दुर्गापुर और आसनसोल, पश्चिम मिदनापुर में मिदनापुर शहर और गोआलतोर तथा दक्षिण दिनाजपुर में बालुरघाट में उस समय झड़पें हुई जब कार्यकर्ताओं ने मोटरसाइकिल रैलियां निकालीं।

पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ताओं को तितर-बितर करने के लिए आसनसोल और गोआलतोर में लाठीचार्ज किया जिसमें दोनों तरफ के कुछ लोग घायल हो गये।

पश्चिम मिदनापुर में सूत्रों ने बताया कि घायलों में डीएसपी स्तर का अधिकारी और चार अन्य पुलिसकर्मी शामिल हैं।

इस घटना पर बीजेपी के पश्चिम बंगाल के प्रदेश प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि ''ये कैसा राज्य और कैसी सरकार !!! 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस सरकार पर पश्चिम बंगाल में राजनीतिक आधार गंवाने के डर से ‘विजय संकल्प’ रैलियां करने से पार्टी कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए पुलिस तथा प्रशासन का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। 

‘विजय संकल्प’ मोटरसाइकिल रैली लोगों से संपर्क करने के लिए भाजपा के देशव्यापी चुनाव पूर्व संपर्क अभियान का हिस्सा है।

घोष ने कहा कि राज्य में यह नयी भाजपा है जो किसी भी तरह की धमकी से नहीं डरेगी। अगर तृणमूल कांग्रेस के नेता सोचते हैं कि वे बल प्रयोग करके भगवा पार्टी के कार्यकर्ताओं को डरा सकते हैं, तो वे गलत समझ रहे हैं।

घोष ने दुर्गापुर में कहा, ‘‘रैलियों में शामिल सैकड़ों पार्टी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। अगर पुलिस हमें गिरफ्तार भी करेगी तब भी रैलियां होंगी।’’ 

कोलकाता पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि एहतियाती कदम के तौर पर शहर के विभिन्न हिस्सों से 135 लोगों को गिरफ्तार किया गया और 59 मोटरसाइकिलें जब्त की गईं।

(इनपुट - भाषा से )
 

DO NOT MISS