General News

पुलवामा में शहीद झारखंड के जवान के परिजन को नौकरी व दस लाख रुपये की आर्थिक सहायता का ऐलान

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

रांची- झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में कल आतंकवादियों के कायराना आत्मघाती हमले में शहीद हुए झारखंड के गुमला जिले के जवान विजय सोरेंगे के एक परिजन को सरकारी नौकरी एवं उनके परिजनों को दस लाख रुपये की सहायता राशि तत्काल देने की बृहस्पतिवार को घोषणा की।

एक सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि मुख्यमंत्री ने शहीद जवान विजय सोरेंग की शहादत को नमन करते हुए पाकिस्तान पर 50 वर्षों से भारत के खिलाफ छद्म युद्ध करने का आरोप लगाया।

मुख्यमंत्री ने उनके परिजनों को दस लाख रुपये नकद सहायता राशि देने की घोषणा की और उनके एक परिजन को सरकारी नौकरी देने की बात कही।

गुमला के रहने वाले सोरेंग पुलवामा के अवंतीपुरा में कल आतंकी हमले में शहीद हुए चालीस से अधिक जवानों में शामिल थे।

दास ने अपने बयान में कहा कि पाकिस्तान छद्म युद्ध जारी रखे हुए है लेकिन भारत ने इस युद्ध के खिलाफ जंग जीतने का निश्चय कर रखा है और हमारी सेना हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

दास ने कहा कि आज केन्द्रीय मंत्रिमंडल की सुरक्षा समिति की बैठक में प्रधानमंत्री ने साफ कर दिया है कि केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों की शहादत बेजां नहीं जायेगी और पाकिस्तान की कमर तोड़ने के लिए ही समिति ने उसे मोस्ट फेवर्ड नेशन की दी गयी वरीयता को वापस ले लिया है।

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गुमला के शहीद विजय सोरेंग के परिवार के प्रति संवेदना जताई है। हालांकि विजय के छोटे भाई संजय सोरेन ने कहा कि टीवी व नेट के जरिये बड़े भाई के शहीद होने की जानकारी मिली है। प्रशासन या सीआरपीएफ की ओर से इस संबंध में कोई सूचना नहीं मिली है। विजय ने गुरुवार दोपहर 12 बजे के करीब घर पर फोन कर परिवार का हाल लिया था। कहा था कि कश्मीर जा रहे हैं। विजय के परिवार में पिता वृष सोरेंग, माता लक्ष्मी सोरेंग, पत्‍‌नी करमेला सोरेंग और चार बच्चे हैं।

इस बीच आज राजभवन में द्रौपदी मुर्मू की उपस्थिति में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी जबकि विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने भी शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उनकी शहादत का हिसाब अवश्य चुकता किया जायेगा।

( इनपुट - भाषा से )

 

 

DO NOT MISS