General News

जम्मू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर का बेतुका बयान.. शहीद भगत सिंह को बताया 'आतंकी'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

भारत को आजादी दिलाने में कई शख्सियत ने बलिदान दिया है. अपनी शहादत से देश को आजादी का ताज पहनाने में शहीद भगत सिंह का नाम शिखर पर शुमार है. लेकिन भगत सिंह को जम्मू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने आतंकवादी बताया है. जिसके बाद प्रोफेसर विवादों से घिर गए हैं. प्रोफेसर एम ताजुद्दीन के इस बेतुके बयान के बाद मामला तूल पकड़ने लगा है. 

इस बयान से हर कोई काफी गुस्से में है. प्रोफसर के खिलाफ हर कोई कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहा है. हालांकि विवाद को बढ़ता देख जम्मू विश्वविद्यालय के कुलपति ने मामले की जांच के लिए कमेटी का गठन कर दिया है. इतना ही नहीं कमेटी की रिपोर्ट आने तक प्रोफेसर ताजुद्दीन के पढ़ाने पर भी रोक लगा दी गई है. 

इस मसले पर विश्वविद्यालय के कुलपति मनोज के धार ने कहा, 'इस मामले की जांच 6 सदस्यीय कमेटी कर रही है. फिलहाल जांच रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है. जांच में जो कुछ भी सामने आता है उसके आधार पर हम प्रोफेसर के खिलाफ कार्रवाई करेंगे.' इस मसले की जानकारी देते हुए कहा कि कुछ छात्रों ने इस प्रकरण की जानकारी देने के लिए मेरे पास आए थे और उन्होंने मुझे सबूत के तौर पर CD भी दिया है. 

दरअसल ये विवाद उस समय सामने आया जब विश्वविद्यालय के सोशल साइंस डिपार्टमेंट के प्रोफेसर ताजुद्दीन के लेक्चर का वीडियो वॉयरल हुआ. इस वीडियो में प्रोफेसर शहीद-ए-आजम भगत सिंह को आतंकी बोल रहे हैं. हालांकि ने अपने उपर लगे आरोपों पर सफाई देते हुए कहा है कि उन्होंने उस समय के हालात के अनुसार उनकी जीवनी और तब के शासकों के हवाले से यह बात कही थी. 

जम्मू विश्वविद्यालय के आक्रोशित विद्यार्थी इस मामले को लेकर जोरदार विरोध कर रहे हैं. इसके साथ ही राजनीतिक महकमे में भी प्रोफेसर ताजुद्दीन के इस बयान की कड़ी आलोचना हो रही है.

विद्यार्थियों का आरोप है कि प्रोफेसर के इस बयान से राष्ट्रवादी विद्यार्थियों को ठेस पहुंची है. उन्होंने वाइस चांसलर से प्रोफेसर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है. साथ ही छात्रों ने कहा कि भगत सिंह ने देश की स्वतंत्रता में अहम योगदान दिया है लेकिन प्रोफेसर उन्हें आतंकी बताकर नफरत फैलाने का काम कर रहे हैं.

इस बेतुके बयान पर भगत सिंह भतीजे अभय सिंह संधू ने रिपब्लिक टीवी से बात करते हुए कहा कि वो इसके खिलाफ आवाज उठाएंगे और भगत सिंह को आतंकवादी बताने वाले प्रोफेसर के बारे में कुलपति से पूछेंगे. ,साथ ही अभय सिंह ने कहा कि ये निंदाजनक घटना है और ऐसा नहीं बोला जाना चाहिए.

बता दें, अपने बयान में प्रोफेसर ने कहा था, 'आजादी के दौर यहां भी हुआ आतंक हुआ था. भगत सिंह को हम हीरो बनाते हैं, वह भी आतंकवादी थे.'

DO NOT MISS