प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

General News

10 दिन में 10,000 नौकरियों के लिए जम्मू कश्मीर सरकार जारी करेगी अधिसूचना

Written By Gursimran Singh | Mumbai | Published:


जम्मू कश्मीर सरकार ने एक महत्वपूर्ण फैसला लेते हुए यह तय किया है कि केंद्र शासित प्रदेश में डोमिसाइल कानून लाने के बाद 10,000 नौकरियों के लिए जल्द ही नोटिफिकेशन जारी की जाएगी। इन नौकरियों में डॉक्टर, जानवरों के डॉक्टर, पंचायत अकाउंट असिस्टेंट और क्लास 4 के लिए नौकरियां रहेंगी। इसका फैसला जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में लिया गया, जिसमें जम्मू कश्मीर के मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम समेत तमाम वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। 


जम्मू कश्मीर सरकार की तरफ से  केंद्र शासित प्रदेश में नौकरियों की भर्ती के लिए बनाई गई कमेटी के चेयरमैन नवीन चौधरी द्वारा आज कमेटी की पहली रिपोर्ट सौंपी गई जिसमें कमेटी की तरफ से यह कहा गया कि 10,000 नौकरियों के लिए जल्द ही नोटिफिकेशन जारी करने का फैसला लिया गया है और यह कार्य अगले 10 दिनों में किया जाएगा ।


उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में जम्मू कश्मीर सरकार की तरफ से यह भी कहा गया है कि क्लास 4 की नौकरियों में ज्यादातर तरज़ीह विधवा, तलाकशुदा, इकलौती मांओ और उन लोगों को दी जाएगी जिनके माता-पिता नहीं हैं ।

19 विभागों में 7000 पोस्टें पहले चरण में होंगी जिसमें क्लास 3 और 4 की नौकरियों के लिए सिर्फ कॉमन एंट्रेंस टेस्ट ही रहेगा और कोई भी इंटरव्यू नहीं होगा। सरकार की तरफ से पंचायत अकाउंट असिस्टेंट के 2000 पद और डॉक्टरों के भी 1000 के लिए नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा। इन नौकरियों में जानवरों के डॉक्टरों के लिए भी 100 पदों के लिए नोटिफिकेशन जारी होगा। 


जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने कहा कि पहले चरण की 10,000 से अधिक पदों के लिए पूरी प्रक्रिया जून 2020 तक खत्म हो जानी चाहिए। कोराना के चलते जम्मू कश्मीर सरकार की तरफ से स्वास्थ्य विभाग के लिए भी 3000 नौकरियां निकाली गई है।


जम्मू कश्मीर सरकार के इस फैसले को इस रूप में भी देखा जा रहा है क्योंकि जम्मू कश्मीर में धारा 370 टूटने के बाद से यह मांग उठ रही थी कि जम्मू-कश्मीर में नौकरियों के अधिकार यहां के लोगों को ही मिले जिस को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार की तरफ से जम्मू कश्मीर डोमिसाइल कानून बनाया गया था और उसके बाद यह कहा गया था कि जल्द ही जम्मू-कश्मीर के युवाओं को रोजगार के कई अवसर मिलेंगे।