General News

ईरान के सर्वोच्च नेता ने कहा : अमेरिका के ‘‘मुंह पर तमाचा’’ लगा

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

ईरान के सर्वोच्च नेता ने कहा कि इस्लामिक गणराज्य द्वारा बुधवार को इराक में अमेरिकी सेना के ठिकानों पर मिसाइलें दागे जाने से अमेरिका के ‘‘चेहरे पर तमाचा’’ लगा है। अयातुल्ला अली खमनेई ने सरकारी टेलीविजन पर प्रसारित एक भाषण में कहा, ‘‘कल रात, चेहरे पर एक तमाचा लगा।’’

इसके पहले उन्होंने संकल्प लिया था कि उस अमेरिकी ड्रोन हमले का बदला लिया जाएगा जिसमें ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत हो गयी थी। ईरान ने देर रात इराक में अमेरिकी सेना के ठिकानों पर कई मिसाइलें दागीं। वाशिंगटन और तेहरान के अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

सर्वोच्च नेता ने कहा कि सुलेमानी की मौत के बाद महत्वपूर्ण मुद्दा यह है कि अब हमारा कर्तव्य क्या है? उन्होंने कहा, ‘‘एक महत्वपूर्ण घटना हुई है। बदला लेने का सवाल एक अलग मुद्दा है।’’

ईरानी नेता ने कहा, ‘‘इस रूप में सैन्य कार्रवाई उस मुद्दे के लिए पर्याप्त नहीं है। महत्वपूर्ण बात यह है कि इस क्षेत्र में अमेरिका की भ्रष्ट उपस्थिति समाप्त होनी चाहिए।’’

ईरान में मिसाइल हमले के बाद ट्रंप ने कहा ‘सब ठीक है’

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इराक में अमेरिकी बलों के दो अड्डों पर ईरान के मिसाइल हमले पर पहली प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा ‘सब ठीक है’ और कहा कि वह बुधवार सुबह राष्ट्र को संबोधित करेंगे।

पेंटागन ने कहा कि मंगलवार रात ईरान ने इराक स्थित ऐसे कम से कम दो सैन्य अड्डों पर एक दर्जन से अधिक बैलिस्टिक मिसाइल दागी, जहां अमेरिकी सेना और उसके सहयोगी बल ठहरे हुए हैं।

ईरान के सरकारी टेलीविजन के मुताबिक बगदाद में अमेरिकी हवाई हमले में ईरान के सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद यह कार्रवाई की गई है। सुलेमानी पर हमले का आदेश शुक्रवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने दिया था।

मिसाइल हमले के कुछ ही समय बाद ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘‘ सब ठीक है। इराक में दौ सैन्य अड्डों पर ईरान ने मिसाइल दागी। इससे हुए नुकसान और हताहतों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। अब तक सब ठीक है। हमारे पास दुनिया की सबसे शक्तिशाली और सर्वसाधनयुक्त सेना है। मैं कल सुबह वक्तव्य दूंगा।’’

इससे पहले ट्रंप ने राष्ट्रीय सुरक्षा दल के साथ बैठक की जिसमें विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर मौजूद थे। हालांकि बैठक की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।
 

DO NOT MISS