Photo of Captain Bhavye Suneja (Source: Facebook)
Photo of Captain Bhavye Suneja (Source: Facebook)

General News

इंडोनेशिया प्लेन क्रैश: दिल्ली के भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे विमान, 3 बच्चे समेत 189 यात्री थे सवार...

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

सोमवार को 188 यात्री और चालक दल के सदस्यों के साथ समुद्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गये इंडोनेशियाई विमान लॉयन एयर के कैप्टन भारतीय पायलट भव्य सुनेजा थे.यह जानकारी एयरलाइन ने दी.बयान के अनुसार, 31 वर्षीय सुनेजा को 6000 उड़ान घंटों का अनुभव था, वहीं सह-पायलट को 5000 से ज्यादा घंटे की उड़ान का अनुभव था

इस विमान में तीन बच्चे सहित 188 लोग सवार थे. इंडोनेशिया की आपदा एजेंसी ने हादसे का शिकार हुए विमान की कुछ तस्वीरें ट्विटर पर डालीं, जिनमें बुरी तरह टूट चुका एक स्मार्टफोन, किताबें, बैग, विमान के कुछ हिस्से दिख रहे हैं. दुर्घटना की जगह तक पहुंचे खोजी एवं बचाव पोतों ने यह सामान इकट्ठा किया है.

दिल्ली के मयूर विहार से ताल्लुक रखने वाले सुनेजा ने एल्कॉन पब्लिक स्कूल से पढ़ाई की थी. साल 2011 में सुनेजा ने इंडोनेशिया की लॉयन एयर में काम करना शुरू किया था, जहां वो बोईंग 737 के चालक दल का हिस्सा थे..इससे पहले वह सितंबर से दिसंबर 2010 तक एमिरेट्स एयरलाइन में प्रशिक्षु पायलट थे.

Photo of Captain Bhavye Suneja (Source: Facebook)

एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पूर्वो नुग्रोहो ने कहा कि जकार्ता से पांगकल पिनांग शहर जा रहे इस विमान में 181 यात्री और चालक दल के सात सदस्य सवार थे. यात्रियों में तीन बच्चे भी शामिल थे.

‘इंडोनेशियन टीवी’ ने विमान से ईंधन के निकल कर समुद्र में फैलने और विमान के मलबे के कुछ हिस्से की तस्वीरें दिखाई.

राष्ट्रीय तलाश और बचाव एजेंसी (एनएसआरए) ने कहा कि पश्चिम जावा के पास समुद्र में यह विमान गिरा. यह जगह 30-35 मीटर (98-115 फुट) गहरी है.

Photo of Captain Bhavye Suneja (Source: Facebook)

एनएसआरए के प्रमुख मुहम्मद स्याउगी ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि गोताखोर विमान के पूरे मलबे का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.

बोइंग 737-800 विमान सुबह 6 बजकर 20 मिनट पांगकल पिनांग के लिए जकार्ता से रवाना हुआ था. विमान की स्थिति पर नजर रखने वाली वेबसाइट ‘फ्लाइटअवेयर’ पर ‘फ्लाइट 610’ से संबंधित सूचना इसके उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद नजर आनी बंद हो गई.

‘इंडोनेशियन टीवी’ ने दर्जनों लोगों को पांगकल पिनांग हवाई अड्डे के बाहर लोगों को बेचैनी में अपने परिजन से जुड़ी सूचना का इंतजार करते और अधिकारियों को प्लास्टिक की कुर्सियां लाते दिखाया.

दिसंबर 2014 में एयरएशिया के एक विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद यह इंडोनेशिया में सबसे बड़ा विमान हादसा है. एयरएशिया का विमान दुर्घटनाग्रस्त होने पर उसमें सवार सभी 162 लोग मारे गए थे.

जकार्ता तलाश एवं बचाव दफ्तर ने अपनी रिपोर्ट में एक नौका के चालक दल के सदस्यों का हवाला दिया है. दरअसल, इस नौका के चालक दल के सदस्यों ने ही ‘लायन एयर’ के विमान को आसमान से गिरते देखने पर इस बारे में सूचित किया था.

एनएसआरए की ओर से वायुसेना को भेजे गए एक टेलीग्राम में तलाश के काम में उसकी सहायता मांगी गई है.

‘लायन एयर’ इंडोनेशिया के सबसे बड़े एयरलाइनों में से एक है, जिसके दर्जनों विमान देश-विदेश की जगहों के लिए उड़ान भरते हैं.

साल 2013 में ‘लायन एयर’ का एक बोइंग 737-800 विमान बाली में उतरते वक्त रनवे से फिसलकर समुद्र में चला गया था. हालांकि, इस घटना में विमान में सवार 108 लोगों में से किसी को कोई नुकसान नहीं हुआ था.

(इनपुट - भाषा से भी)

DO NOT MISS