General News

पुलवामा हमले के बाद केंद्र सरकार ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए पाकिस्तान से भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को वापस दिल्ली बुलाया

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:


जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले में 40 जवान शहीद हो चुके हैं। देश के हर हिस्से में गुस्सा है। सरकार भी एक्शन में नजर आ रही है।  केंद्र सरकार ने पाकिस्तान से भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को वापस दिल्ली बुलाया ।  उनको सलाह मशवरा के लिए भारत बुलाया जा रहा है ।  अयज बिसारिया आज शाम तक स्पेशल फ्लाईट से दिल्ली पहुंचेगें । 

वहीं श्रीनगर पहुंचे गृहमंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू - कश्मीर के राज्याल सत्यपाल मलिक और सेना के नॉर्दर्न कमांड चीफ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने पुलवामा हमले में शहीद हुए सीआपईएफ जवानों को श्रद्धांजलि दी । उसके बाद खुद राजनाथ सिंह ने शहिदों को कांधा दिया । इस दौरान बड़गाम में सीआरपीएफ के कैम्प में जवानों ने 'वीर जवान अमर रहे' के नारे लगे । 

बता दें जवानों के पार्थिव शरिर को पालम एयरपोर्ट में लाया जाएगा । जहां  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण मौजूद रहेंगे।  

इस घटना के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 'लोगों का खून खौल रहा है और यह मैं समझ रहा हूं. हमारे सुरक्षा बलों को पूर्ण स्वतंत्रता दे दी गई है.' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलवामा में मारे गए आतंकियों के प्रति शोक व्‍यक्‍त किया. उन्‍होंने कहा कि आज देश का खून खौल रहा है. इसके लिए दोषियों को बड़ी कीमत चुकानी होगी.'

वहीं स्वर कोकिला लता मंगेश्कर ने भी घटना को लेकर दुख जताया है । लता मंगेश्कर ने ट्वीट कर कहा कि , ' जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले की मैं कड़ी निंदा करती हूँ. इस हमले में जो हमारे वीर जवान शहीद हुए है उनको मैं श्रद्धांजली अर्पित करती हूँ. इन सभी वीरों के परिवारों के दुःख में मैं शामिल हूँ. '

बता दें यह आंतकवादी घटना अवंतितोरा इलाके में हुई । घटना में इस्तेमाल किया गया विस्फोटक इतना शक्तिशाली था कि उसकी आवाज 10-12 किलोमीटर दूर, यहां तक कि पुलवामा से जुड़े श्रीनगर के कुछ इलाकों तक भी सुनाई दी।

स्थानीय निवासियों ने बताया कि घटना में शहीद हुए जवानों के क्षत विक्षत शव जम्मू कश्मीर राजमार्ग में बिखर गए। कुछ शवों की हालत तो इतनी खराब है कि उनकी शिनाख्त में काफी वक्त भी लग गया।

वहीं सीआरपीएफ ने कहा कि न भूलेंगे , न माफ करेंगे ।  सीआरपीएफ के अधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट किया गया है - हम न भूलेंगे , न माफ करेंगे । हम पुलवामा हमले के अपने शहीदों को नमन करते हैं और शहीद भाइयों के परिजनों के साथ हैं ।  इस जघन्न  हमले का बदला लिया जाएगा । 

DO NOT MISS