General News

आतंकवाद पर इमरान का सबसे बड़ा कुबूलनामा, 'ISI और पाक आर्मी ने दी अलकायदा के आतंकियों को ट्रेनिंग'

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

अमेरिका को खून से आंसू रूला देने वाला ओसामा बिन लादेन भी पाकिस्तान में ही मिला। खुद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान मानते हैं कि एक दो नहीं बल्कि आतंकी संगठन अलकायदा को बनाने में उनकी फौज का पुरा हाथ रहा। बेगुनाहों का खून बहाने के लिए आतंकियों को ट्रेनिंग पाकिस्तान में ही दी जाती है ..न्यूयॉर्क में काउंसिल ऑन फॉरेन रिलेशन (CFR) में इमरान खान ने कबूल किया कि अमेरिका की मदद के लिए पाकिस्तान ने आतंकियों को ट्रेंड किया। 

इमरान खाने ने विदेश संबंधों की परिषद (सीएफआर) में बात करते हुए कहा कि 1980 में सोवियत संघ के वक्त अफगानिस्तान के मसले पर पाकिस्तान ने अमेरिका का साथ दिया. सोवियत के खिलाफ जिहाद करने के लिए पाकिस्तानी सेना और ISI ने आतंकियों को ट्रेनिंग दी, जो बाद में अलकायदा बना। 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को कहा कि पाकिस्तान ने 9/11 हमलों के बाद अमेरिका का साथ देकर बड़ी भूल की। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों को वो वादा नहीं करना चाहिये था जिसे वे पूरा नहीं कर सकीं।

यह भी पढ़ें - मलीहा लोधी ने फिर करायी PAK की फजीहत, ब्रिटिश प्रधानमंत्री को लिखा 'विदेश मंत्री'

वैसे तो इमरान खान अमेरिका गए थे कश्मीर पर अपना राग अलापने के लिए, लेकिन अमेरिका में इमरान खान को मिली तो सिर्फ बेइज्जती। ट्रंप के सामने इमरान खान ने कश्मीर का रोना रोया लेकिन ट्रंप ने भारत को अपना अहम दोस्त बताकर पाकिस्तान को दूर से ही भगा दिया। कश्मीर पर मुंह की खाने के बाद हताश इमरान खान ने वो सच भी बोला जिसे वो आज तक झुठला रहा था। इमरान कान ने कबूल किया कि पुलवामा हमले के बाद भारत ने बालाकोट में एयरस्ट्राइक की थी। 

इमरान खान का बयान बताता है कि बालाकोट का गहरा जख्म अब भी उसके दिल में ताजा है लेकिन पाकिस्तान को ये भी स्वीकर करना चाहिए कि जिन आतंकियों को वो पाल पोस रहा है वो आज उसके लिए ही मुसीबत बन गए हैं। इमरान खान आज कबूल तो कर रहे हैं कि पाकिस्तान में आतंक का अड्डा है। पाकिस्तान में ही आतंकियों को पनाह दी जा रही है लेकिन इमरान खान और पाक हुक्मरान कब सुधरेंगे।

 

 

DO NOT MISS