General News

Howdy मोदी ' अमेरिका और ह्यूस्टन में भारतीय समुदाय का संयुक्त उत्सव है'

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

हाउडी मोदी कार्यक्रम में पीएम मोदी को सुनने के लिए 50 हजार लोग पहुंच रहे हैं। इसके अलावा लाखों की तादाद में भी लोग हैं, जो पीएम मोदी को सुनना चाहते हैं लेकिन स्टेडियम की इतनी क्षमता इतनी नहीं है कि उन्हें इजाजत दी जाती। बहरहाल अमेरिका और ह्यस्टन मोदी मोदी बोल रहा है...हालांकि पीएम मोदी एक हफ्ते तक अमेरिका में रहेंगे और इस दौरान वो कई कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे।

रिपब्लिक टीवी ने शनिवार को वरिष्ठ पत्रकार अशोक मलिक से बात की, जो ह्यूस्टन में होने वाले मोदी कार्यक्रम में गवाह बनने के लिए वाशिंगटन से यहां पहुंचे। अशोक मलिक ने इस आयोजन को 'संयुक्त राज्य अमेरिका और ह्यूस्टन में भारतीय समुदाय का उत्सव' कहा। उन्होंने भारतीय-अमेरिकी समुदाय को भारतीय और अमेरिकी समाज के बीच एक पुल भी कहा।

यह भी पढ़ें - Howdy मोदी कार्यक्रम में सुरों का जलवा बिखेरने को तैयार स्पर्श शाह ने ऐसे छेड़ा देशभक्ति के तराना, गाया 'वंदे मातरम' गीत

मलिक ने यह भी कहा कि ह्यूस्टन को चुने जाने का कारण यह है कि ह्यूस्टन भारत के साथ एक महत्वपूर्ण व्यापारिक भागीदार बन गया है। उन्होंने यह भी कहा कि "ह्यूस्टन में और टेक्सास में नवाचार, नौकरी के निर्माण और व्यवसाय और प्रौद्योगिकी और चिकित्सा जैसे क्षेत्रों में काम करने वाले एक विशाल भारतीय प्रवासी काम कर रहे हैं, जो इस घटना को एक ऐसे समुदाय का उत्सव बनाता है जिसने मूल्य को जोड़ा है। दोनों देश और दोनों समाज। ”

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम के लिए शनिवार को ह्यूस्टन पहुंचे और भारतीय समुदाय के लोगों ने उनका जोरदार स्वागत किया। ह्यूस्टन जाने के क्रम में मोदी का विमान दो घंटे के तकनीकी ठहराव के लिए फ्रैंकफर्ट में रूका था जहां जर्मनी में भारतीय दूत मुक्ता तोमर और महावाणिज्य दूत प्रतिभा पारकर ने उनकी अगवानी की ।

रविवार को यहां एनआरजी फुटबॉल स्टेडियम में ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम का आयोजन होगा। पोप को छोड़कर, किसी निर्वाचित विदेशी नेता के अमेरिका दौरे पर लोगों का यह सबसे बड़ा जमावड़ा होगा ।

यह भी पढ़ें - Howdy मोदी: अमेरिका पर चढ़ा 'गरबा फीवर', डांडिया क्वीन फाल्गुनी पाठक ने ह्यूस्टन में गुनगुनाया “राधा ने श्याम” सॉन्ग

अमेरिका रवाना होने से पहले मोदी ने एक बयान में कहा था कि ह्यूस्टन के कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति की उपस्थिति बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसा पहली बार होगा कि मोदी के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति भारतीय-अमेरिकी समुदाय के कार्यक्रम में शिरकत कर रहे हैं।

DO NOT MISS