pc-google
pc-google

General News

इंटरपोल ने स्वयंभू बाबा नित्यानंद के खिलाफ ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

इंटरपोल ने स्वयंभू बाबा नित्यानंद का पता लगाने में मदद करने के लिए ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया है। गुजरात पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी।

कर्नाटक में नित्यानंद के खिलाफ बलात्कार का एक मामला दर्ज किये जाने के बाद पिछले वर्ष वह भारत से भाग गया था।

राज्य पुलिस ने यहां नित्यानंद के आश्रम से दो लड़कियों के लापता होने के बाद पिछले वर्ष नवम्बर में उसके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी के सिलसिले में एक स्थानीय अदालत में दायर एक आरोप पत्र में इस कदम का खुलासा किया है।

पुलिस उपाधीक्षक के टी कामरिया ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘इंटरपोल ने इस महीने विवादास्पद स्वयंभू बाबा के खिलाफ ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया है।’’

पुलिस ने बताया कि वे इस पर काम कर रहे थे कि अब उसके खिलाफ इंटरपोल द्वारा रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया जाए।

एक आपराधिक जांच के सिलसिले में एक व्यक्ति का पता लगाने या उसके बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया जाता है जबकि रेड कॉर्नर नोटिस एक वांछित व्यक्ति की गिरफ्तारी के लिए जारी किया जाता है।

याद दिलाते चलें कि गुजरात के अहमदाबाद में अपना आश्रम चलाने के लिए बच्चों को कथित तौर पर अगवा करने और उन्हें बंधक बनाकर अनुयायियों से चंदा जुटाने के काम में लगाने के आरोप में स्वयंभू बाबा स्वामी नित्यानंद के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है। 

पुलिस ने दो महिला अनुयायियों- साध्वी प्राण प्रियानंद और प्रियातत्व रिद्धि किरण को भी गिरफ्तार किया है। दोनों पर कम से कम चार बच्चों को कथित तौर पर अगवा करने और उन्हें एक फ्लैट में बंधक बनाकर रखने का आरोप है। आश्रम के लिए चंदा एकत्र करने के काम में इन बच्चों का इस्तेमाल बाल श्रमिक के तौर पर किया जा रहा था।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि एक फ्लैट और योगिनी सर्वज्ञापीठम आश्रम से मुक्त कराए गए चार बच्चों के बयान पुलिस द्वारा दर्ज किए जाने के बाद इसी तरह के आरोपों पर नित्यानंद के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस ने बताया, ‘‘आश्रम के नौ और 10 साल के दो बच्चों ने हमें बताया कि उन्हें यातना दी जा रही थी और बाल श्रमिक के तौर पर उनसे काम करवाया जा रहा था। शहर के एक फ्लैट में उन्हें 10 से ज्यादा दिनों से बंधक बनाकर रखा गया था। इन आरोपों के बाद स्वामी नित्यानंद की दो अनुयायियों को गिरफ्तार कर लिया गया।’’

DO NOT MISS