General News

19 दिन बाद पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने तोड़ा अनशन, सरकार से नहीं हुआ कोई समझौता..

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने 19 दिनों से चल रहे अपने अनिश्चितकालीन उपवास को खत्म कर लिया है. बता दें, हार्दिक पटेल पाटीदार समुदाय के लिए आरक्षण और किसानों की कर्ज माफी की मांग को लेकर अनशन पर बैठे थे. हार्दिक पटेल की तबीयत काफी ज्यादा खराब हो गई थी जिसकी वजह से डॉक्टरों ने उन्हें अपना अनशन तोड़ने के लिए कहा था. 

तबीयत खराब होने की वजह से उन्हें बीते शुक्रवार उन्हें अस्पताल में भी भर्ती कराया गया था. शुक्रवार को उन्हें व्हीलचेयर पर बैठाकर अस्पताल ले जाया गया था. हार्दिक पटेल 25 अगस्त से ही अनशन पर बैठे थे. हार्दिक गुजरात सरकार से पाटीदार समुदाय को OBC में रखने की मांग कर रहे हैं.

वहीं हार्दिक पटेल का समर्थन कांग्रेस पार्टी समेत तमाम विपक्षी पार्टियों ने भी किया है. बीते दिनों कांग्रेस के स्टेट प्रेसीडेंट अमित चावड़ा और विधायक दल का नेता परेश धनानी ने हार्दिक पटेल का समर्थन देते हुए घोषणा की थी कि यदि सूबे की सरकार पाटीदार नेता हार्दिक पटेल से बातचीत नहीं करती है तो वह उनके समर्थन में शुक्रवार को 24 घंटे का उपवास रखेगी. कांग्रेस के नेताओं ने कहा था कि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से पाटीदार अमानत आंदोलन समीति के साथ 24 घंटे के भीतर बात करने के लिए कहा था. 

बता दें, हार्दिक ने अपने ताजा ट्वीट में केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट करके बेरोजगारी का मुद्दा उठाया है. उन्होंने लिखा, ''बेरोजगार युवा किसी भी देश के लिए शर्म का विषय होते हैं..राष्ट्रीय शर्म न बन जाए बेरोजगारी.''

हार्दिक पटेल के अनशन के दौरान भारतीय जनता पार्टी के बागी नेता यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा दोनों हार्दिक पटेल से मिलने के लिए पहुंचे थे. इस दौरान सरकार की ओर से हार्दिक पटेल को कोई सकारात्मक प्रस्ताव नहीं मिला.