"> ">

General News

नहीं रहीं दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित, 81 साल की उम्र में हुआ निधन

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष शीला दीक्षित का शनिवार को निधन हो गया। वह 81 साल की थीं। पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि उन्हें शुक्रवार सुबह सीने में जकड़न की शिकायत के बाद एस्कार्ट्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह 15 वर्ष तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं।

शीला 1998 से 2013 के बीच 15 वर्षो तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं। राष्ट्रीय राजधानी में पार्टी को फिर से खड़ा करने के मकसद से उन्हें कुछ महीने पहले ही दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया था।

शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था। उन्होंने दिल्ली के कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से पढ़ाई की और फिर दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से उच्च शिक्षा हासिल की।

वह साल 1984 से 1989 तक उत्तर प्रदेश के कन्नौज से सांसद रहीं। बाद में वह दिल्ली की राजनीति में सक्रिय हुईं।
 

कांग्रेस की दिग्गज नेता की इस दुखद मौत की खबर सेदिल्ली समेत राजनीतिक क्षेत्रों में शोक की लहर  है। कुमार विश्वास ने शीला दीक्षित को श्रद्धाजंलि देते हुए लिखा कि आप जैसी बेहद सौम्य और सुलझे विचारों की प्रगतिशील नेता का जाना न केवल @INCIndia या दिल्ली बल्कि पूरे देश की बड़ी क्षति है ! ईश्वर आप को अपनी शांति-छाया में यथेष्ट स्थान प्रदान करे, यही प्रार्थना है ! ॐ शान्ति ॐ। 

वहीं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी  श्रद्धाजंलि देते हुए लिखा कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और काँग्रेस की वरिष्ठ नेता श्रीमती शिला दीक्षित जी के देहांत की खबर सुनकर व्यथित हूं। दिल्ली के विकास में उनका योगदान हमेशा याद रखा जाएगा। उनके परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। भगवान शीला जी की दिवंगत आत्मा को शांति दे। ॐ शांतिः।

वहीं बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने लिखा कि कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित जी के निधन की खबर दुखद है! देश की राजनीति में उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकेगा! ईश्वर उनकी आत्मा शांति प्रदान करे और परिजनों को ये दुःख सहन करने शक्ति दे!

 

DO NOT MISS