General News

गोपाल कांडा का समर्थन लेने पर BJP में बढ़ा विवाद, उमा भारती बोली, "साथ साफ सुथरे लोगों को ही जोड़ा जाए"

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

हरियाणा चुनाव के नतीजों ने एक बार फिर राजनीतिक सदगर्मियां तेज कर दी हैं, अबकी बार 75 पार का नारा लगाने वाली बीजेपी 40 सीट पर सिमट गई। भले ही बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनी हो लेकिन बहुमत के जादूई आंकड़े को छू नहीं पाई, अब बीजेपी को सरकार बनाने के लिए 46 विधायकों की जरूरत है यानि बीजेपी को 6 और विधायक चाहिए जिससे की खट्टर दोबारा हरियाणा में सरकार बना सके।

जादूई आंकड़े का गणित जुटाने के लिए बैठकों का दौर जारी है, बीजेपी अब निर्दलीय के भरोसे है। इन निर्दलीयों में गोपाल कांडा भी शामिल हैं, कभी गोपाल कांडा के खिलाफ मोर्चा खोलने वाली बीजेपी को अब सरकार बनाने के लिए कांडा के दाग भी अच्छे लगने लग गए हैं।

वहीं हरियाण चुनाव में कांडा का समर्थन लेने पर उमा भारती ने BJP को चेताया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि हरियाणा में हमारी सरकार ज़रूर बने, लेकिन यह तय करिए कि जैसे बीजेपी के कार्यकर्ता साफ-सुथरे ज़िंदगी के होते हैं, हमारे साथ वैसे ही लोग हों।

मनोहर लाल खट्टर दिल्ली पहुंचकर मंथन कर रहे हैं, खट्टर ने निर्दलीय विधायकों के साथ बैठक की है और हरियाणा में बीजेपी सरकार बनाने की बात कही है। वहीं दूसरी तरफ हरियाणा की राजनीति में दुष्यंत चौटाला की पार्टी जेजेपी दस सीटें जीतकर किंगमेकर की भूमिक में है, दुष्यंत चौटाला बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियों के संपर्क में हैं और चौटाला ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं।

लेकिन निर्दलीय विधायकों ने बीजेपी की राह आसान कर दी है, निर्दलीय विधायकों के साथ आने से बीजेपी सरकार बना लेगी।

अगर दुष्यंत चौटाला बीजेपी के साथ आ जाते हैं तो बीजेपी की राह और भी आसान हो जाएगी। चौटाला की पार्टी को दस सीटें मिली हैं, बीजेपी को पूरा विश्वास है कि वो फिर से हरियाणा में सरकार बनाएगी। 

दूसरी तरफ कांग्रेस भी सरकार बनाने के लिए आखिरी दांव खेल रही है, भूपेंद्र सिंह हुड्डा सोनिया गांधी के साथ बैठक कर रहे हैं।  कांग्रेस जादूई आंकड़े से 15 सीट पीछे है, सरकार बनाने के लिए कांग्रेस को जेजेपी के साथ साथ निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन की जरूरत पड़ेगी।

अभी तक के जोड़तोड़ में तो साफ साफ दिख रहा है कि बीजेपी हरियाणा में खिचड़ी सरकार बना लेगी और कांग्रेस एक बार फिर सत्ता की चाबी से दूर ही नजर आ रही है।

DO NOT MISS