General News

हैदराबाद एनकाउंटर पर बोले दिशा के पिता, "मेरी बेटी को इंसाफ मिला, पुलिस ने जो किया सही किया"

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

 हैदराबाद में एक पशु-चिकित्सक के सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में गिरफ्तार किए गए चार आरोपियों के शुक्रवार तड़के पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे जाने से पीड़िता का परिवार खुश है और इसके लिए उन्होंने पुलिस तथा तेलंगाना सरकार का शुक्रिया भी अदा किया।

पीड़िता के पिता ने कहा, ‘‘ हमने टीवी पर देखा कि वे मुठभेड़ में मारे गए। हम खुश हैं। लोग भी खुश हैं। मैं मुठभेड़ के लिए तेलंगाना सरकार और पुलिस का शुक्रिया अदा करता हूं। मैं हमारे साथ खड़े रहे सभी लोगों का शुक्रिया करता हूं।’’

महिला की बहन ने मुठभेड़ से महिलाओं के खिलाफ ऐसे अपराध किए जाने वालों में डर उत्पन्न होने की उम्मीद जतायी है। उन्होंने कहा, ‘‘ हम खुश हैं। हमे इसकी उम्मीद नहीं थी। हमें लगा था कि उन्हें अदालत के जरिए फांसी मिलेगी।’’

उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘‘हमारे साथ खड़े रहे हर एक शख्स का हम शुक्रिया करते हैं। इस घटना के बाद लोगों को ऐसी घटनाएं (महिलाओं के खिलाफ) करने से डरना चाहिए।’’ वहीं साइबराबाद पुलिस आयुक्त वी सी सज्जनर ने कहा, ‘‘चारों आरोपी पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए।’’

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान दो पुलिसकर्मी भी घायल हो गए। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि घटना सुबह साढ़े छह बजे की है। जांच के लिए पुलिस आरोपियों को घटनाक्रम की पुनर्रचना के लिए घटनास्थल पर ले गई थी।

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘उन्होंने (आरोपी) पुलिस से हथियार छीने और पुलिस पर गोलियां चलाई। आरोपियों ने भागने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस ने जवाब में गोलियां चलाई। इस दौरान चार आरोपी मारे गए।’’

अधिकारी ने बताया कि इस घटना में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। हैदराबाद में पशु चिकित्सक युवती का बलात्कार और हत्या के चारों आरोपियों की आयु 20 से 24 वर्ष थी। उनमें से एक लॉरी चालक था और बाकी हेल्पर थे। उन्हें 29 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था।

आरोपियों ने बलात्कार के बाद युवती की गला दबाकर हत्या कर दी थी और बाद में शव को जला दिया था। आरोपियों को सात दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। चारों आरोपियों के मुठभेड़ में मारे जाने पर पीड़िता की बहन ने प्रसन्नता जताई।

DO NOT MISS