General News

निजी कंपनियों से महंगी बिजली खरीदी वसुंधरा सरकार ने: कांग्रेस

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

कांग्रेस ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार ने बीते पांच साल में निजी कंपनियों से महंगी दर पर बिजली खरीदी और सरकारी खजाने को 6670 करोड़ रुपये का चूना लगाया .

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने विभिन्न आरटीआई अर्जियों पर सरकार द्वारा दिए गए जवाबों के आधार पर आरोप लगाया कि भाजपा ने अपने पूंजीपति मित्रों की निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाया वहीं सरकारी बिजली कंपनियों को कंगाल किया .

उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने 2008 से 2013 के दौरान अपने पांच साल के कार्यकाल में 6526 करोड़ रुपये की बिजली खरीदी थी. वहीं वसुंधरा राजे सरकार ने वित्त वर्ष 2013-14 से लेकर फरवरी 2018 तक लगभग पांच साल में ही 41966.44 करोड़ रुपये की बिजली खरीद डाली .

 

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा , आरटीआई में खुलासा हुआ है. कांग्रेस सरकार ने 5 साल में मजह 6526 करोड़ की बिजली खरीदी, जबकि वसुंधरा सरकार ने 2013 में 5 हजार करोड़ , 15-16 में 9 हजार करोड़ , 16-17 में 10 हजार करोड़ की बिजली खरीदी. राजे  सरकार ने 5 साल में 41 966 करोड़ रुपये की बिजली खरीदी, सज्जन जिंदल की राज वेस्ट से 11 हजार खरीद की बिजली , अडानी पावर से 11934 करोड़ की बिजली खरीदी , वसुंधरा सरकार ने 100 प्रतिशत दर पर बिजली खरीदी.

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि इसमें से वसुंधरा सरकार ने भाजपा की करीबी तीन बड़ी कंपनियों से पांच साल में 25,951.75 करोड़ रुपये की बिजली खरीदी जिनमें सज्जन जिंदल की अनुषंगी कंपनी राज वेस्ट पावर, अडानी पॉवर राजस्थान लिमिटेड व टाटा के स्वामित्व वाली कोस्टल गुजरात है .

कांग्रेस ने एक बड़ा आरोप यह लगाया है कि इन कंपनियों से यह बिजली डेढ़ गुना या इससे भी अधिक दाम पर खरीदी गयी.  इससे सरकारी खजाने को 6670 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार सत्ता में आने पर सरकारी कंपनियों से उत्पादन बढ़ाने पर जोर देगी .

( इनपुट- भाषा से )
 

DO NOT MISS