General News

CBI की गहन पूछताछ के बीच सिर्फ दो घंटे ही 'सो' पाया बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

अगस्ता वेस्टलैंड मामले का कथित बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल भारत आने के बाद दो घंटे की ही नींद ले पाया है क्योंकि CBI उससे इस मामले में गहन पूछताछ कर रही है. सूत्रों के हवाले से बुधवार को इस बात की जानकारी मिली है.

भारत के आग्रह पर दुबई से यहां लाए गए मिशेल को तड़के CBI मुख्यालय में पहुंचने के बाद बेचैनी का आघात आय. इसके बाद इलाज के लिए डॉक्टरों को बुलाया गया. इलाज के बाद धन की हेराफेरी और कई करोड़ रुपए वाले सौदे के दस्तावेजों की पहचान के संबंध में उससे गहन पूछताछ शुरू हुई.

बुधवार को नाश्ता मिलने से पहले तड़के चार बजे से 6 बजे तक ही उसे सोने की इजाजत दी गई थी.

जानकारी के मुताबिक सुबह 6 बजे के बाद CBI की विशेष जांच समिति के अधिकारियों ने उससे सवाल-जवाब शुरू कर दिए. संयुक्त अरब अमीरात (UAE) सरकार द्वारा उसके प्रत्यर्पण का रास्ता साफ करने के बाद मिशेल को संयुक्त निदेशक साई मनोहर के नेतृत्व वाली सीबीआई की एक टीम भारत लेकर आई.

मिशेल गल्फस्ट्रीम के विमान से मंगलवार रात करीब दस बजकर 40 मिनट पर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पहुंचा जिसके बाद इस मामले में CBI ने उसे गिरफ्तार कर लिया. फिर मिशेल को पुलिस कार और बाइक के एक छोटे काफिले के साथ CBI मुख्यालय के भूतल के लॉकअप में मंगलवार की देर रात एक बजकर 20 मिनट पर ले जाया गया.

बुधवार शाम 4 बजे उसे पाटियाला हाउस अदालत ले जाया गया. जिसने उसे पांच दिन की CBI हिरासत में भेज दिया. मामले में मिशेल के अलावा ग्यूडो हैशके और कार्लो गेरोसा भी बिचौलिए हैं. प्रवर्तन निदेशालय और CBI मामले की जांच कर रही है. CBI का आरोप है कि सौदे में अनुमानित तौर पर 39.82 करोड़ यूरो (तकरीबन 2,666 करोड़ रूपये) का नुकसान हुआ. कुल 55.62 करोड़ यूरो में वीवीआईपी हेलिकॉप्टरों की आपूर्ति के लिए आठ फरवरी 2010 को समझौता हुआ था.

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने जून 2016 में मिशेल के खिलाफ अपने आरोपपत्र में आरोप लगाया था कि उसे अगस्ता वेस्टलैंड से कथित तौर पर तीन करोड़ यूरो (करीब 225 करोड़ रूपये) मिले थे.

भारत ने इस सौदे को हासिल करने के लिए 423 करोड़ रूपए की दलाली के भुगतान का आरोप लगने के बाद एक जनवरी, 2014 को भारतीय वायु सेना के लिए 12 अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर खरीदने का करार रद्द कर दिया था.

केन्द्रीय जांच ब्यूरो ने इस मामले में एक सितंबर, 2017 को आरोप पत्र दाखिल किया था जिसमें मिशेल भी आरोपी के रूप में नामित है.

(इनपुट : भाषा)

DO NOT MISS