General News

कर्नाटक में खरीद-फरोख्त के आरोप तथ्यहीन, कांग्रेस की अंदरूनी समस्या : जेपी नड्डा

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

कर्नाटक में सत्तारूढ़ गठबंधन के विधायकों की खरीद फरोख्त कर राज्य की सरकार को अस्थिर करने के कांग्रेस जद (एस) के आरोपों को खारिज करते हुए भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने रविवार को कहा कि यह कांग्रेस की अंदरूनी समस्या है जो राहुल गांधी के इस्तीफे से प्रारंभ हुई है।

भाजपा का कार्यकारी अध्यक्ष बनने के बाद अपनी पहली झारखंड यात्रा के दौरान यहां संवाददाता सम्मेलन में नड्डा ने यह बयान दिया ।

नड्डा से जब यह पूछा गया कि कर्नाटक में सत्तारूढ़ गठबंधन का आरोप है कि भाजपा के कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा ने 20 20 करोड़ रुपया देकर विधायकों को तोड़ा है और पार्टी इस पर मौन है, तो उन्होंने दो टूक कहा, ‘‘यह आरोप निराधार है । यह कांग्रेस का अंदरूनी मामला है। उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया और सभी लोग अब इस्तीफा दे रहे हैं।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस के लोग इस्तीफा दे रहे हैं यह उनका आंतरिक मामला है। यह अवश्य है कि जो लोग इस्तीफा दे रहे हैं उनका विषय सर्वोच्च न्यायालय में देखा जा रहा है । इसका क्या परिणाम होगा, यह वह जाने और उनका विषय जाने। भारतीय जनता पार्टी इसमें बिलकुल स्पष्ट है।’’ 

यह पूछे जाने पर कि क्या गोवा में कांग्रेस के विधायकों को अलग ग्रुप बनाकर भाजपा में शामिल कराना कांग्रेस-मुक्त भारत बनाने के प्रयास के लिए उठाया गया कदम है, नड्डा ने कहा, ‘‘कांग्रेस मुक्त भारत का मतलब है कांग्रेस की संस्कृति का अंत। कांग्रेस और कमीशन, कांग्रेस और भ्रष्टाचार, कांग्रेस की स्वार्थ नीति यह सब पर्यायवाची हैं। इस संस्कृति से देश को मुक्ति दिलाना।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आप देखेंगे कि भारत में मोदी जी के नेतृत्व में एक नयी संस्कृति आयी है जिसको जनता ने शाबाशी दी है और उसका समर्थन किया है। वोट बैंक की राजनीति, जातिवाद की राजनीति, वंशवाद की राजनीति को लोगों ने नकारा है और विकासवाद की राजनीति को अपनाया है।’’ उन्होंने कहा कि भाजपा सर्वव्यापी है सर्वग्राही है। सभी क्षेत्रों के लोगों का पार्टी में स्वागत है। बस आवश्यक यह है कि वह समाज में योगदान देने के लिए तैयार हों।

देश में अनेक स्थानों पर भीड़ द्वारा हत्या किये जाने की घटनाओं के बारे में पूछे जाने पर नड्डा ने कहा, ‘‘जो भी कानून अपने हाथ में लेने की कोशिश करता है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। देश के सभी हिस्सों में जहां ऐसी घटनाएं हो रही हैं वहां कानून अपना काम कर रहा है। भाजपा तो सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास की राजनीति में भरोसा करती है अतः वह सर्वसमावेशी राजनीति के रास्ते पर देश के विकास के लिए तेजी से कार्य कर रही है।

वहीं भाजपा की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा ने रविवार को कहा कि राज्य में गठबंधन सरकार बहुमत खो चुकी है। उन्होंने मांग की कि मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी को तुरन्त इस्तीफा देना चाहिए या उन्हें सोमवार को विश्वास मत हासिल करना चाहिए। येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘मैं मांग करता हूं कि अगर मुख्यमंत्री ईमानदार हैं और लोकतांत्रिक प्रणाली की परवाह करते हैं तो उन्हें तुरन्त इस्तीफा दे देना चाहिए या सोमवार को विश्वास मत के लिए एक प्रस्ताव पारित करना चाहिए।’’ 

भाजपा नेता ने यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि जद (एस) और कांग्रेस के 16 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है और दो निर्दलीय विधायकों ने भी सरकार से समर्थन वापस ले लिया है और भाजपा को अपना समर्थन दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘आपने (कुमारस्वामी) बहुमत खो दिया है। इसलिए उन्हें विश्वास मत हासिल करना चाहिए या तुरन्त इस्तीफा देना चाहिए। कल (सोमवार को) कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में मैं कुमारस्वामी को ऐसा करने की ही सलाह दूंगा और चर्चा करूंगा।’’ 

सूत्रों के अनुसार कार्यमंत्रणा समिति की शुक्रवार को हुई बैठक में कुमारस्वामी ने बुधवार को विश्वास मत हासिल करने का प्रस्ताव दिया था। हालांकि कोई निर्णय नहीं लिया गया था क्योंकि मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा ने बैठक में भाग नहीं लिया था।

DO NOT MISS