General News

कोलकाता के पूर्व कमिश्नर पर CBI का शिकंजा, मोबाइल फोन और लैपटॉप किया सीज़

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

सीबीआई ने कोलकाता के पूर्व कमिश्नर राजीव कुमार पर शिकंजा कसा है। CBI ने ममता बनर्जी के करीबी रहे राजीव कुमार का मोबाइल फोन और लैपटॉप सीज कर दिया है। इससे पहले सीबाई ने सुप्रीम कोर्ट में 6 दस्तावेज पेश किए। ताकी कस्टोडियल इंटेरोगेशन की जा सके। 

बता दें सुप्रीम कोर्ट ने सारदा चिटफंड घोटाला मामले में कोलकाता पुलिस के पूर्व आयुक्त राजीव कुमार से हिरासत में पूछताछ का आग्रह करने वाले केन्द्रीय जांच ब्यूरो से मंगलवार को कहा था कि इसके लिये उसे साक्ष्य पेश करने होंगे। इसके जवाब में सीबीआई ने 6 दस्तावेज पेश किए। इसके साथ ही सीबीआई ने कस्टोडियल इंटेरोगेशन की मांग की । सीबीआई का कहना है कि जब राजीव कुमार को कस्टोडी में लेकर पुछताछ नहीं होगी तब यह मामला नहीं खुलेगा।  रिपोर्ट के अनुसार कोलकाता के पूर्व कमिश्नर जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। 

इससे पहले सीबीआई ने राजीव कुमार से सिलोंग में पूछताछ की थी जहां उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। 

इससे पहले मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने सीबीआई की ओर से पेश सालिसीटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि उसे हमें संतुष्ट करना होगा कि कुमार को हिरासत मे लेकर पूछताछ करने का उसका आग्रह उचित और न्याय के हित में है। पीठ ने तुषार मेहता से कहा कि इस संबंध में साक्ष्य पेश कर हमें संतुष्ट कीजिए कि चिटफंड मामले में साक्ष्य नष्ट करने या उन्हें गायब करने में कुमार की कहीं कोई भूमिका है।

मेहता ने पीठ से कहा कि वह कल कुमार के खिलाफ इस संबंध में साक्ष्य दाखिल कर देंगे। इस पर पीठ ने जांच ब्यूरो की अर्जी बुधवार को सुनवाई के लिये सूचीबद्ध कर दी।

बता दें कि कोर्ट के आदेश पर जांच एजेन्सी सारदा चिट फंड घोटाला मामले की जांच कर रही है और अब वह कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से हिरासत में पूछताछ करना चाहती है क्योंकि उसका दावा है कि पूछताछ के दौरान उन्होंने सवालों के टालमटोल वाले जवाब दिये थे।