General News

अजीत डोभाल की कश्मीर यात्रा पर दिए बयान के लिए आजाद माफी मांगें : भाजपा

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

भाजपा ने कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल की कश्मीर यात्रा को धनबल से प्रायोजित बताए जाने पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए माफी की मांग की। भाजपा ने कहा कि कांग्रेस नेता के इस बयान का इस्तेमाल पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मंचों पर कर सकता है।

संविधान के अनुच्छेद-370 के तहत जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को केंद्र द्वारा खत्म किए जाने के तुरंत बाद एनएसए डोभाल ने आतंकवाद प्रभावित दक्षिण कश्मीर का दौरा किया। वह बुधवार को फुटपाथ पर स्थानीय लोगों के साथ भोजन करते हुए दिखे जिसकी तस्वीर और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। 

आजाद ने डोभाल के कश्मीर दौरे पर कहा, ‘‘ पैसे देकर आप किसी को भी साथ ला सकते हो।’’ 

इस टिप्पणी को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि इस तरह के बयान की उम्मीद पाकिस्तानियों से की जाती है, न कि देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी से।

हुसैन ने एक रिपब्लिक भारत से बात करते हुए कहा, ‘‘ गुलाम नबी आजाद की टिप्पणी दुर्भाग्यपूर्ण है। मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूं.... जब एनएसए राज्य का दौरा करते हैं, इलाके के लोगों से मिलते हैं साथ खाना खाते हैं, तो कांग्रेस कहती है कि हमने उन्हें पैसा दिया है।’’ 

उन्होंने कहा ‘‘ इस तरह के आरोप पाकिस्तान के लोग लगाते हैं। इसकी उम्मीद कांग्रेस जैसी देश की सबसे बड़ी पार्टी से नहीं की जाती। आप कैसे ऐसे आरोप लगा सकते हैं? इस बयान का इस्तेमाल पाकिस्तान वैश्विक मंचों पर करेगा। उन्हें (आजाद को) तुंरत इस बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए। ’’ 

दरअसल, 370 हटने के बाद डोभाल कल कश्मीर का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कश्मीरियों के साथ बिरियानी भी खाई थी।  साथ ही वहां के हालात का जायज़ा लिया, सुरक्षाबलों से बात भी की और उनका मनोबल बढ़ाया। 

वहीं कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आज़ाद और जम्मू-कश्मीर के कांग्रेस प्रमुख गुलाम अहमद मीर को श्रीनगर हवाई अड्डे पर रोक दिया गया। आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से श्रीनगर में धारा-144 लगी हुई है. 

बता दें कि मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370  के अधिकांश प्रावधानों को हटा दिया। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष राज्य का दर्जा भी खत्म हो गया। केंद्र सरकार ने इन सबके बीच जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल को भी संसद के दोनों सदनों से पास करवा लिया। इस बिल के पास होने के बाद जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया गया है। अब जम्मू कश्मीर और लद्दाख दो केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाएंगे।


कश्मीर की आजादी से नाखुश 'आजाद' से रिपब्लिक भारत के सवाल

कांग्रेस के लिए देश पहले या पाकिस्तान ?
कश्मीरियों का अपमान क्यों ?
कितना और गिरेगी कांग्रेस ?
कांग्रेस को देश पर भरोसा क्यों नहीं ?
वोट के लिए कुछ भी करेगी कांग्रेस ?


 

DO NOT MISS