General News

बांग्लादेशी एक्टर के 'प्रचार' पर बढ़ा विवाद, टीएमसी के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत करेगी BJP

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

लोकसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार के समर्थन में बांग्लादेश के एक अभिनेता द्वारा कथित तौर पर चुनाव प्रचार करने के मामले में केंद्र ने मंगलवार को कोलकाता के विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण अधिकारी से रिपोर्ट मांगी। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। वहीं बीजेपी भी इस मामले को लेकर चुनाव आयोग पहुंच गई है।

ऐसी खबरें हैं कि कुछ भारतीय अभिनेताओं के साथ बांग्लादेश के अभिनेता फिरदौस अहमद ने रायगंज से तृणमूल उम्मीदवार कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में चुनाव प्रचार में कथित तौर पर हिस्सा लिया था।

विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण अधिकारी (एफआरआरओ) कोलकाता से इस बारे में विस्तृत जानकारी मांगी गयी है कि क्या अहमद ने लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान में कथित तौर पर हिस्सा लेकर वीजा शर्तों का उल्लंघन किया है।

रिपब्लिक टीवी से बात करते हुए केंद्रीय मंत्री बबूल सुप्रियो ने कहा कि "आरोप क्यों लगाया गया? यह वास्तविकता है? हमने बांग्लादेशी अभिनेता को टीएमसी के लिए प्रचार करते हुए देखा है। मेरा मानना है कि टीएमसी ने निश्चित रूप से इस चीज अंदाजा हो गया है कि वो बंगाल में हराने वाले हैं। इसलिए वो ऐसा सबकुछ कर रहे हैं। ममता बनर्जी के नेतत्व वाली पार्टी सबकुछ गैरसंवैधानिक और अनैतिक काम कर रही है। जो कुछ भी हो रहा है, वह मुख्यमंत्री की सहमति के बाद हो रहा है। यह कानूनी हिस्सा है, अन्यथा वास्तव में कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्हें जो करना है वह करने दें। क्या हमारे प्रधान मंत्री ने विश्व नेताओं के साथ तालमेल बिठाया है। यह वास्तव में राष्ट्रीय पार्टी के लिए कोई मायने नहीं रखता है। लेकिन कानूनी तौर पर इसकी जांच होनी चाहिए "।

बताया जाता है कि अहमद बिजनेस वीजा पर भारत आते रहते हैं।

ऐसी खबर है कि बांग्लादेशी फिल्म अभिनेता को भारत-बांग्लादेश सीमा के पास हेमताबाद और करांदिघी में चुनाव प्रचार रैलियों में अग्रवाल के समर्थन में वोट मांगते देखा गया था।

एफआरआरओ अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाले इलाके में वीजा सेवा उपलब्ध कराने के लिये जिम्मेदार होता है।

DO NOT MISS