General News

बिन्नी बंसल ने फ्लिपकार्ट के CEO पद से दिया इस्तीफा

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

ई कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट में बड़ा बदलाव देखने को मिला है. कंपनी के को-फाउंडर और सीईओ बिन्नी बंसल ने फ्लिपकार्ट से इस्तीफा दे दिया है. वॉलमार्ट के मुताबिक बिन्नी बंसल ने जांच के चलते इस्तीफा दिया है. हालांकि बिन्नी बंसल ने जांच की वजह से इस्तीफे की बात को नकारा है.

बता दें, बिन्नी बंसल पर निजी तौर पर गड़बड़ी का आरोप सामने आया था. ये खबर एजेंसी के हवाले से सामने आई थी. वॉलमार्ट ने एक बयान में कहा है कि जांच में बिन्नी बंसल के खिलाफ सबूत नहीं मिले हैं लेकिन जांच के दौरान बिन्नी बंसल के व्यवहार में काफी हद तक खामियां पाई गईं. इसमें पारदर्शिता की कमी थी, इसी के चलते उनका इस्तीफा मंजूर कर लिया गया है.

वॉलमार्ट ने कहा कि वो फ्लिपकार्ट में उत्तराधिकारी के लिए काम कर रही है. फिलहाल अभी कल्याण कृष्णमूर्ति फ्लिपकार्ट के सीईओ के तौर पर बने रहेंगे. अब इसमें मिंत्रा और जबॉन्ग को भी शामिल कर दिया गया है. यानी अब अनंत नारायण मिंत्रा और जबॉन्ग के सीईओ बने रहेंगे पर वो कृष्णमूर्ति को रिपोर्ट करेंगे. वहीं समीर निगम फोन पे के सीईओ बने रहेंगे. कल्याण और समीर दोनों बोर्ड को रिपोर्ट करेंगे.

बिन्नी बंसल एक भारतीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर और इंटरनेट उद्यमी है. उन्होंने 2007 में अपने साथी सचिन बंसल के साथ ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म फ्लिपकार्ट को लॉन्च किया था. बिन्नी बंसल ने IIT दिल्ली से पढ़ाई की है. बिन्नी बंसल मुख्य तौर पर पंजाब और हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ से आते हैं.

फ्लिपकार्ट के शुरुआती दिनों में बिन्नी ने बेहतर भूमिका अदा की थी. कंपनी ने देश में ऑनलाइन जगत में एक नया मुकाम हासिल किया. धीरे-धीरे फ्लिपकार्ट अपनी अलग पहचान बनाने लगी और सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि अमेरिका की कंपनी AMAZONE को भी कड़ी टक्कर देने लगी.

फ्लिपकार्ट से पहले, बिन्नी बंसल अमेज़न के साथ 9 महीनों के लिए काम किया था. जिसके बाद उन्होंने महसूस किया कि भारत में ई-कॉमर्स के लिए बाजार बहुत छोटा था. इसलिए, 2007 में अमेजन छोड़ने के बाद उन्होंने फ्लिपकार्ट एक ई-कॉमर्स कंपनी को स्थापित किया. अमेजन में शामिल होने से पहले, बिन्नी ने 1.5 साल तक किसी अन्य कंपनी के साथ काम किया है.

DO NOT MISS