General News

'अब असल मायनों में जम्मू कश्मीर बना भारत का अभिन्न अंग': BJD, अन्नाद्रमुक ने अनुच्छेद 370 हटाने का स्वागत किया

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

बीजू जनता दल ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के संकल्प का स्वागत करते हुए सोमवार को कहा कि ‘‘जम्मू कश्मीर सही मायनों में आज भारत का अभिन्न अंग बना है। ’’ 

राज्यसभा में बीजद के नेता प्रसन्न आचार्य ने अनुच्छेद 370 को हटाने संबंधी संकल्प पर चर्चा में भाग लेते हुए इसके लिए गृह मंत्री अमित शाह को बधाई दी। 

उन्होंने कहा, ‘‘हम भले ही क्षेत्रीय दल हैं और क्षेत्रीय आकांक्षाएं रखते हैं किंतु जब देश की एकता, अखंडता और सुरक्षा की बात हो तो हम पूरे देश के साथ हैं।’’ आचार्य ने कहा, ‘‘इस इस संकल्प का स्वागत करते हैं। जम्मू कश्मीर सही मायनों में आज भारत का अभिन्न अंग बना है।’’ 

यह भी पढ़ें - 'क्या गौरवशाली दिन है, आखिरकार डॉक्टर मुखर्जी की शहादत का हुआ सम्मान' अनुच्छेद 370 पर राम माधव

आचार्य ने संकल्प के विरोध में सदन में कुछ विपक्षी दलों के सदस्यों द्वारा किए गए प्रदर्शन को संविधान विरोधी करार देते हुए इसकी भर्त्सना की। अन्नाद्रमुक ने भी अनुच्छेद 370 हटाने संबंधी संकल्प तथा राज्य पुनर्गठन विधेयक का समर्थन किया । अन्नाद्रमुक के नेता ए नवनीत कृष्णन ने कहा कि उनकी पार्टी इसका समर्थन करती है। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 एक अस्थायी प्रावधान था। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी की दिवंगत नेता जे जयललिता देश की एकता, अखंडता और संप्रभुता को बनाए रखने की पक्षधर थीं।

यह भी पढ़ें - धारा 370 हटाने पर बौखलाई महबूबा मुफ्ती, कहा- 'कश्मीर के साथ किये गए वादों को पूरा करने में नाकाम रहा भारत'

वहीं  केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने संविधान के अनुच्छेद 370 पर केंद्र सरकार के कदम को सोमवार को “ऐतिहासिक एवं साहसिक निर्णय” बताया। अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देता है।  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में एक प्रस्ताव पेश किया कि जम्मू-कश्मीर पर अनुच्छेद 370 के सभी प्रावधान लागू नहीं होंगे। 

उत्तरी गोवा से लोकसभा सदस्य नाइक ने सरकार के कदम पर प्रतिक्रिया करते हुए ट्वीट किया, “अनुच्छेद 370 को रद्द करने के लिए राज्यसभा में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा प्रस्ताव पेश करना ऐतिहासिक एवं साहसिक निर्णय है..भारत एक है।’’ 

सरकार ने सोमवार को एक विधेयक पेश किया जिसमें जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों - जम्मू-कश्मीर डिविजन और लद्दाख के रूप में विभाजित करने का प्रस्ताव दिया गया है।
 

DO NOT MISS