General News

मोदी को पत्र लिखने वाले 49 शख्सियतों के समर्थन में उतरे बंगाल भाजपा उपाध्यक्ष

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:


भाजपा के पश्चिम बंगाल उपाध्यक्ष चंद्र कुमार बोस ने भीड़ हत्या और नफरत की भावना से किये जाने वाले अपराधों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखने वाले 49 शख्सियतों का शुक्रवार को समर्थन किया। वहीं, इस विषय पर विभिन्न क्षेत्रों की 61 सेलीब्रिटी के जवाबी बयान को एक ‘‘मजाक’’ बताते हुए कहा कि यह इस विषय की गंभीरता को कमतर करेगा। 

उनका यह बयान भाजपा के लिए शर्मिंदगी का सबब बन सकता है। 

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के प्रपौत्र चंद्र कुमार बोस ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘भीड़ हत्या के सिलसिले में शख्सियतों की चिंताओं का मैं समर्थन करता हूं। और मैं आश्वस्त हूं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस तरह की घटना को रोकने के लिए सुधारात्मक कदम उठायेंगे। लेकिन मैं कहना चाहुंगा कि भीड़ हत्या और धर्म को आपस में नहीं जोड़ा जाना चाहिए।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘जिस किसी ने भी पत्र लिखा है या उस पर हस्ताक्षर किये हैं उनसे मेरा कोई वास्ता नहीं है। मैं बस पत्र की विषय वस्तु का समर्थन कर रहा हूं।’’ 

उल्लेखनीय है कि 49 शख्सियतों द्वारा मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी को लिखे एक पत्र पर शुक्रवार को विभिन्न क्षेत्रों की 61 सेलीब्रिटी ने एक जवाबी बयान जारी करते हुए उनकी चिंताओं को चुनिंदा नाराजगी और झूठा विमर्श बताया। 

बोस ने 61 सेलीब्रिटी के जवाबी बयान पर कहा, ‘‘यह महज एक मजाक है जो इस विषय की गंभीरता को कमतर करेगा। हम सभी को भीड़ हत्या की बुराई से लड़ने के लिए एकजुट होना चाहिए।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘भीड़ हत्या ‘हत्या’ के समान है और आरोपी के दोषी पाये जाने पर कानून के तहत कठोर सजा दी जानी चाहिए। भीड़ हत्या में संलिप्त यदि कोई व्यक्ति अपराधी है तो उसे जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए, चाहे उसकी पृष्ठभूमि कुछ भी हो।’’ 

गौरतलब है कि अदाकारा कंगना रनौत, गीतकार प्रसून जोशी, शास्त्रीय नृत्यांगना सोनल मानसिंह, फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर और विवेक अग्निहोत्री तथा अन्य के हस्ताक्षर वाले बयान में कहा गया है कि 49 स्वयंभू अभिभावकों एवं अंतरात्मा के रखवालों का 23 जुलाई का पत्र चुनिंदा चिंताएं जाहिर करता है और एक स्पष्ट राजनीतिक पूर्वाग्रह एवं मंसूबा प्रदर्शित करता है। 

पश्चिम बंगाल भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने बुधवार को 49 शख्सियतों के पत्र को ‘‘राष्ट्र विरोधी’’ बताते हुए आरोप लगाया था कि वे विपक्ष की कठपुतली के तरह कार्य कर रहे हैं। 

बोस की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए प्रदेश भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा है कि यह विषय केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष उठाया जाएगा। 

फिल्म निर्माता मणि रत्नम, अनुराग कश्यप, श्याम बेनेगल और अर्पणा सेन, शास्त्रीय गायिका शुभा मुदगल तथा इतिहासकार रामचंद्र गुहा आदि सहित 49 शख्सियतों ने धार्मिक पहचान के आधार पर नफरत की भावना से किये जाने वाले अपराध पर 23 जुलाई को चिंता जाहिर की थी। उन्होंने इस बात का जिक्र किया था कि ‘जय श्री राम’ के नारे के साथ भीड़ हत्या की कई घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। 

DO NOT MISS