General News

370 हटाने पर असदुद्दीन ओवैसी का विवादित बोल, कहा -'सरकार को कश्मीर से मुहब्बत है लेकिन कश्मीरियों से नहीं'

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने से तिलमलाए ऑल इंडिया मजलिस-ए -इत्तेहाद -उल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा है। 

उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि पीएम को पंडित नेहरू और सरदार पटेल की तरह राजनीतिक ज्ञान नहीं है।  जब उन्होंने कश्मीर पर फैसला लिया था तो उन्होंने कहा कि ये देश के हित में लिया गया फैसला है, उनका दावा है कि वह श्यामा प्रसाद के पद चिन्हों पर चल रहे हैं। लेकिन शायद वे नहीं जानते की श्याम प्रसाद ने अनुच्छेद 370 को स्वीकार किया है। 

ओवैसी ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि इन्हें सिर्फ कश्मीरियों की जमीन ये प्यार है, उनके नहीं । वह यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा कि क्या सरकार देश में महाभारत चाहती है। गौरतलब है कि आर्टिकल 370 हटाने के बाद से विपक्ष लगातार केंद्र सरकार पर हमला बोल रहा है। 

एमआईएम प्रमुख ने कहा कि इस्लाम का केलेंडर भी कुर्बानी से खत्म होता है। हम जिंदा कौम है। ओवैसी ने एनएसए अजीत डोभाल पर हमला बोलते हुए कहा कि साहब वहां जाकर लोगों के साथ खाना खा रहे है और उसे दिखलाया जा रहा है, कश्मीरियों की क्यों नहीं सुनते आप। घाटी में 35 हजार पैरामिलिट्री फोर्स तैनात कर दिये गए है,आपने चीन को भी मौका दे दिया  है । सरकार का यह फैसला गलत साबित होगा ।

ओवैसी का कश्मीर मामले पर बयान देते हुए कहा कि जो संविधान की दुहाई देते थे उसको आपने कैद कर दिया, लोगों को खुला छोड़ दीजिए। सरकार को कश्मीर के लोगों के उपर भरोसा नहीं है।

उन्होंने कहा कि क्या कश्मीर के लोग इससे खुश है। पूरे रियासत के हिस्से को आपने कैद बनाकर रख दिया। यह हिंदुस्तान के आईन के खिलाफ है। बिना कश्मीर के लोगों की रजामंदी के फैसले लिये गए। 370 मामले में हुकूमत ने हठधर्मिता की है

वहीं मॉब लिंचिंग के उपर बोलते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि हमने तमाम मसलों को लोकसभा में उठाया। तीन तलाक मामले में हमने कहा कि महिला की शिकायत पर शौहर को गिरफ्तार कर लिया जाएगा तो वह मुआवजा कैसे देगा, हमने कहा कि मुस्लिम में शादी कॉन्ट्रेक्ट है,सात जन्मों का साथ नहीं है। सजा के प्रावधान को लेकर भी अंतर है। यह मुस्लिमों के खिलाफ है। कानून द्वारा होगा कि तीन तलाक मिलने के बाद कहा जाएगा कि हमने एक तलाक दिये।
 

DO NOT MISS