General News

मोदी को ‘गाय अर्थव्यवस्था’ की चिंता है, देश की अर्थव्यवस्था की नहीं : असदुद्दीन ओवैसी

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने बुधवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मथुरा में ‘ओम’ और ‘गाय’ के बारे में बात की।

हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने यहां पत्रकारों से बात करते हुए प्रधानमंत्री पर तंज कसा और कहा कि मोदी को ‘गाय अर्थव्यवस्था’ की चिंता है, देश की अर्थव्यवस्था की नहीं।

उन्होंने आरोप लगाया , ‘‘ उनका लक्ष्य महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड के विधानसभा चुनाव हैं। उन्होंने उसी को ध्यान में रखकर यह बोला है।’’

ओवैसी ने कहा कि हर भारतीय सुबह में मंदिर से ‘ओम’ और भजन, मस्जिद से नमाज़ तथा गुरद्वारा, गिरजाघरों तथा अन्य स्थानों से प्रार्थनाओं की आवाज सुनता है। यह भारत की खूबसूरती है।

उन्होंने कहा कि मोदी को कहना चाहिए था कि यह खूबसूरती देश में हैं, जहां सभी मजहबों के लोग रहते हैं लेकिन प्रधानमंत्री ने सिर्फ एक धर्म की बात की, जो दुखद है।

सांसद ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ‘गाय अर्थव्यवस्था’ से चिंतित हैं न कि देश की अर्थव्यवस्था से। जीडीपी में गिरावट आई है और वह ऐसे मुद्दों पर चर्चा नहीं चाहते हैं।

ओवैसी ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री चाहते हैं कि देश में गरीबी और बेरोजगारी और अस्थायी छंटनी जैसे दुखदायी मुद्दों के बारे में कोई बहस न हो और उनसे लोगों का ध्यान हटा दिया जाए।’’

उन्होंने कहा कि मोदी ने भीड़ द्वारा पीट पीटकर हत्या किए जाने की घटनाओं पर चिंता व्यक्त की थी लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ।

ओवैसी ने आरोप लगाया, ‘‘ आपकी सरकार, आपकी राज्य सरकार पीड़ित के लिए न्याय सुनिश्चित करने के बजाय अत्याचारी के साथ खड़ी है।’’

वह झारखंड में भीड द्वारा तबरेज अंसारी की जान लेने के मामले में 11 आरोपियों के खिलाफ पुलिस की ओर से हत्या की धारा हटाने का हवाला दे रहे थे।

एआईएमआईएम के प्रमुख ने कहा कि वह जानते हैं कि हिन्दू भाइयों के लिए गाय आस्था का मामला है लेकिन संविधान में जीने का अधिकार मनुष्यों के लिए है।

यह भी पढ़े- तबरेज अंसारी लींचिंग मामले में ओवैसी बोले- आखिर आरोपियों पर धारा 302 क्यों नहीं लगाया जा सकता ?

यह भी पढ़ेृ- 370 हटाने पर असदुद्दीन ओवैसी का विवादित बोल, कहा -'सरकार को कश्मीर से मोहब्बत है लेकिन कश्मीरियों से नहीं'

DO NOT MISS