General News

अगर मौलाना साद ने कोई गुनाह नहीं किया, तो कानून से भाग क्यों रहा है? जानिए इस मुद्दे पर अर्नब की राय

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

निजामुद्दीन स्थित मरकज में भीड़ जुटाने के आरोपी मौलाना मोहम्मद साद ने 400 लोगों को कोरोना दिया है. जो मौलाना साद 20 से ज्यादा मौत का मुजरिम है वो मौलाना साद अब तक आजाद क्यों है? जिस मौलाना साद ने 2000 लोगों की जान लेने की साजिश की, जिस मौलाना ने पूरे हिंदुस्तान में कोरोना फैलाने की तैयारी की वो मौलाना साद अब तक गिरफ्तार क्यों नहीं हुआ?

मरकज में 1 से 15 मार्च के बीच हुए कार्यक्रम में देश-विदेश के 5 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए थे। लेकिन, इसके बाद भी करीब 2000 से ज्यादा लोग यहां रुके रहे, जबकि ज्यादातर लॉकडाउन से पहले अपने घरों को लौट गए। यहां से संक्रमण का कनेक्शन दिल्ली समेत 22 राज्यों से जुड़ रहा है। इनमें तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, असम, उत्तरप्रदेश, तेलंगाना, पुडुचेरी, कर्नाटक, अंडमान निकोबार, आंध्रप्रदेश, श्रीनगर, दिल्ली, ओडिशा, प.बंगाल, हिमाचल, राजस्थान, गुजरात, मेघालय, मणिपुर, बिहार, केरल और छत्तीसगढ़ शामिल है।


अर्नब की राय 

मरकज के मौलाना साद ने कहा था कि 'मस्जिद से अच्छी मौत कहीं नहीं' तो वो अब छिप कर कोरनटाइन में क्यों हैं. मौलाना साद तो कल तक कर रहा था कि मुसलमानों को डराने के लिए कोरोना का झूठ फैलाया जा रहा है। अब वो खुद कोरोना से क्या डरा हुआ है? मौलाना साद कहता था कि मस्जिद में कोरोना वायरस नहीं आएगा तो वो अपना इलाज क्यों करा रहा है. उसे कोरोना कैसे हो सकता है. जिसने सैकड़ों लोगों की बीमार बना दिया वो आपको भी बीमार कर सकता है। मुझे भी कर सकता है, उसको आप लोग क्यों बचा रहे हैं?

मौलाना साद ने आज कहा कि डॉक्टर के पास जाना शरियत के खिलाफ नहीं है तो क्या शरियत में ये लिखा है कि डॉक्टर पर थूको? मौलाना साद ने जमात बुलाई. वहां से मौजूद 20 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है, 400 लोग पीड़ित है, ऐसा आदमी धर्मगुरु है कि कातिल है?मौलाना अब सलाह दे रहा है कि मरकज के लोग कानून का पालन करें, तो तुम कानून का पालन क्यों नहीं करते। आओ पुलिस के सामने सरेंडर करो। कुछ लोग कह रहे हैं कि 200 देशों में साद के 100 करोड़ अनुयायी हैं। जिसको 100 करोड़ समर्थक हैं। वो कानून से क्यों डर रहा है। वो तो 100 करोड़ लोगों को कानून तोड़ना सिखा रहा है।