General News

जब दुनिया में युद्ध तब कांग्रेस कराएगी 'गृहयुद्ध'? जाने इस मुद्दे पर अर्नब की राय

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:


अमेरिका और ईरान के बीच युद्ध का माहौल बना हुआ है। माना जा रहा है कि विश्वयुद्ध हो सकता है। तीसरा विश्वयुद्ध, दुनिया में इसके लिए कोई सबूत नहीं मांगा जा रहा है। लेकिन भारत में सबूत गैंग फिर से जाग गया है। जो लोग एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक पर सबूत मांग रहे थे। वो एक बार फिर सरकार से सवाल कर रहे हैं। कांग्रेस के नेता कह रहे हैं कि अमेरिका ने ईरान पर हमला किया। उसने चीन और पाकिस्तान से बात की। तो फिर भारत से बात क्यों नहीं की। आपको अपनी सेना पर भरोसा नहीं है। उसे तो आप गाली देते हैं। तो क्या आपको ईरान से नहीं पूछा, कहां हमला किया सबूत दो? अपनी सेना और सरकार से नफरत और दूसरे देश की सेना और सरकार का समर्थन। भारत में रहकर आखिर भारत का अपमान क्यों?


अर्नब की राय 

कांग्रेस क्या कह रही है। अमेरिका ने युद्ध करने से पहले भारत से बात नहीं की चीन और पाकिस्तान से की। आप लोगों को अमेरिका की बड़ी चिंता है? लेकिन जब भारत बालाकोट पर हमला करता है तो कहते हैं कि सबूत कहां है?  आप देश के साथ हैं या देश के दुश्मन?

दरअसल, जो लोग सेना प्रमुख को गाली देते हैं। जो लोग देश की सेना को हत्यारा कहते हैं  उन्हें अमेरिका और ईरान की सेना की चिंता है। लेकिन यही लोग हमारी फौज पर पत्थर फेंक कर ताली बजाते हैं।

उन्होंने मैं कांग्रेस को याद दिला दूं कि 1962 में चीन से हार के बाद जवाहर लाल नेहरू ने क्या कहा था। नेहरू ने कहा था कि अक्साई चिन में तो घास तक नहीं उगती, वो बंजर इलाका है उसके लिए क्यों इतनी चिंता करना? इसका मतलब कांग्रेस हार का जश्न मनाती है? देश के जीतने पर उनको दुख होता है? कांग्रेस कहती है कि जम्मू-कश्मीर हमारा आंतरिक मामला नहीं है। इसे UN में ले जाना चाहिए? आपके लिए जम्मू-कश्मीर आंतरिक मामला नहीं है 
लेकिन ईरान और अमेरिका आंतरिक मामला है?

जो लोग कहते हैं कि हम वंदेमातर नहीं बोलेंगे। जो लोग आतंकियों को आसोमा जी बोलेंगे? वही लोग सेना से सबूत मांगते हैं और आज वही लोग युद्ध के नाम पर राजनीति कर रहे हैं?
 16 जुलाई 2009 को  Sharm-el-Sheikh में मनमोहन सिंह ने क्या कहा था। बलोचिस्तान में भारत विद्रोह फैलाता है। जिस पार्टी को भारत से ज्यादा पाकिस्तान की चिंता हो वहीं ईरान-अमेरिका के बहाने अपनी सरकार पर सवाल उठा सकती है।

राहुल गांधी को मुस्लिम ब्रदरहुड की चिंता है? राहुल गांधी को isis के लिए परेशान हैं। राहुल गांधी विदेश में भारतीय संस्कृति पर सवाल करते हैं? अगर राहुल गांधी को भारत से इनकी नफरत है तो इटली की नागरिकता उन्हें आराम से मिल जाएगी। लेकिन हमारे देश को बदनाम ना करें।
 

यह भी पढ़े- JNU में रजिस्ट्रेशन रोककर हंगामा क्यों किया? जाने इस मुद्दे पर अर्नब की राय

 

DO NOT MISS