General News

नक्सल विरोधी अभियान : सुरक्षा बलों के लिए पहले एयर एम्बुलेंस को मंजूरी दी गई

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

नक्सल विरोधी अभियानों के लिए तैनात सुरक्षा बलों और ऊंचाई वाले स्थानों पर सीमा चौकियों की निगरानी में तैनात जवानों के लिए अपनी तरह की पहली एयर एम्बुलेंस सेवा को मंजूरी दी गयी है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। 

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक हालिया आदेश, जिसे पीटीआई-भाषा ने देखा है, में कहा गया कि सीमा सुरक्षा बल के एमआई-17 हेलीकॉप्टर पर एयर एम्बुलेंस होगी और इसे झारखंड की राजधानी रांची में तैनात रखा जाएगा। 

इस बाबत एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों को समर्पित इस एयर एम्बुलेंस सेवा में चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ और पैरामेडिकल कर्मचारी 24 घंटे तैनात रहेंगे।

अधिकारी ने बताया कि स्टैबिलाइजर तथा ऑक्सीजन सिलिंडर जैसे चिकित्सा उपकरणों को भी इस हेलीकॉप्टर में लगाया जाएगा। 

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ), सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) शामिल है।

अधिकारी ने बताया कि इस नई सुविधा से अभियानों में घायल हुए जवानों को त्वरित चिकित्सा सहायता प्रदान करने तथा उनके रक्तस्राव को रोकने में महत्वपूर्ण रूप से समय की बचत होगी और इससे बेशकीमती जिंदगियां बचाई जा सकेंगी।

उन्होंने बताया कि इस सेवा का मुख्य लक्ष्य नक्सल प्रभावित राज्यों में तैनात लगभग एक लाख केंद्रीय सुरक्षा बलों को चिकित्सा सेवाएं मुहैया कराना है और इससे राज्य पुलिस को भी मदद मिलेगी।

हालांकि, इस एम्बुलेंस का इस्तेमाल सुदूरवर्ती सीमावर्ती क्षेत्रों और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तैनात केंद्रीय पुलिस कर्मियों को वहां से हटाने और चिकित्सा सहायता प्रदान करने के लिए भी किया जा सकता है।

यह पहला मौका है जब केंद्रीय बलों के लिए ऐसी पूर्णकालिक हवाई चिकित्सा सुविधा प्रदान की गई है। इससे खासकर नक्सल हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में मदद मिलेगी जहां चिकित्सा सुविधाओं का अभाव है और जो संपर्क की समस्याओं से प्रभावित है।

यह भी पढ़े -नक्सलियों को कांग्रेस का समर्थन : छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रवक्ता रमेश वर्लियानी ने कहा- 'नक्सलियों के साथ ठीक व्यवहार नहीं' . . .

यह भी पढ़े- सराईकेला - खरसावां में नक्सलियों ने कार्यकर्ताओं को बंधक बनाकर BJP कार्यालय को उड़ाया, पर्चा बरामद . . . . 

DO NOT MISS