General News

बनर्जी के साथ बातचीत को तैयार, स्थान बाद में तय करेंगे : हड़ताली डॉक्टरों ने कहा

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

पश्चिम बंगाल में जारी गतिरोध के दूर होने के आसार शनिवार रात नजर आए जब आंदोलन कर रहे डॉक्टरों ने कहा कि वे प्रदर्शन खत्म करने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बातचीत को तैयार हैं लेकिन मुलाकात की जगह वे बाद में तय करेंगे। 

इससे पहले शाम में उन्होंने राज्य सचिवालय में बनर्जी के साथ बैठक के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था और इसकी बजाए उनसे गतिरोध सुलझाने को लेकर खुली चर्चा के लिए एनआरएस मेडिकल कॉलेज अस्पताल आने को कहा था।

शनिवार देर रात जूनियर डॉक्टरों के संयुक्त फोरम ने संवाददाता सम्मेलन बुलाया। 

फोरम के प्रवक्ता ने कहा, “हम हमेशा से बातचीत के लिए तैयार हैं। अगर मुख्यमंत्री एक हाथ बढ़ाएंगी तो हम हमारे 10 हाथ बढ़ाएंगे.. हम इस गतिरोध के खत्म होने की तत्परता से प्रतीक्षा कर रहे हैं।” 

प्रदर्शनरत डॉक्टरों ने कहा कि वे बैठक के लिए प्रस्तावित स्थान को लेकर अपने संगठन के फैसले का इंतजार करेंगे। 


साथ ही डॉक्टरों ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के उस दावे को भी खारिज किया जिसमें कहा गया था कि कुछ डॉक्टर उनसे मिलने सचिवालय गए थे। दरअसल ममता बनर्जी ने शनिवार को अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि डॉक्टरों की सभी मांगे मान ली जाएंगी , वे काम पर लौट जाएं।


बता दें कि गृह मंत्रालय ने राज्य से स्थिति पर रिपोर्ट भी मांगी है। हालांकि ममता बनर्जी ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'ऐसी अडवाइजरी तो उत्तर प्रदेश और गुजरात भेजी जानी चाहिए, जहां कुछ सालों में कई हत्याएं हुई हैं।' बंगाल के राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाणी ने ममता बनर्जी को एक पत्र लिखकर चिकित्सकों को सुरक्षा उपलब्ध करवाने का निर्देश दिया। 
 

याद दिला दें कि बीते सोमवार को 75 साल के मोहम्मद सईद की एनआरएस मेडिकल कालेज अस्पताल में दिल का दौरा पड़ने से निधन के बाद उसके परिजनों और पड़ोसियों ने दो जूनियर डॉक्टरों की पिटाई कर दी थी। उनका आरोप था कि जूनियर डॉक्टरों के गलत इंजेक्शन की वजह से ही मरीज की मौत हुई है। इस मारपीट में दो जूनियर डॉक्टरों को गहरी चोटें आई थीं। उनमें से एक को सिर में गंभीर चोट आई थी और उसका आपरेशन करना पड़ा है। उसके बाद तमाम डॉक्टरों ने आंदोलन शुरू कर दिया था।

 

( इनपुट-भाषा से भी )

DO NOT MISS