General News

बिहार में शराबबंदी के बाद नीतीश सरकार ने पान मसाला पर लगाया बैन

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

बिहार सरकार ने शराबबंद के बाद अब सूबे में पान मसाला पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है। जो आज से ही लागू होगा। यानि बिहार में यह प्रतिबंध 12 महीने के लिए लगाया गया है।

बिहार सरकार द्वारा जारी फरमान में कहा गया है कि भारतीय संविधान के अनुसार राज्य सरकार अपने लोगों को पोषाहार स्तर को ऊंचा करने और जन स्वास्थ्य के सुधार हेतु स्वास्थ्य के लिए हानिकारक पदार्थों के उपयोग को प्रतिबंधित कर सकती है।

जानकरी के अनुसार मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आहूत उच्चस्तरीय बैठक में दिए गए निर्देश के अनुसार सूबे के खाद्य संरक्षा आयुक्त ने राज्य के विभिन्न ब्रांड के पान मसाला पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह फैसला राज्य के सभी जिलों से प्राप्त पान मसाला के नमूनों के जांच में मैग्निशियम कार्बोनेट की मात्रा पाए जाने के बाद लिया गया है।


आपको बता दें कि पान मसाले से मैग्निशियम कार्बोनेट से हृदय संबंधित बीमारियों सहित विभिन्न प्रकार की परेशानियां होती हैं। पान मसाला के लिए फूड सेफ्टी एक्ट 2006 में दिए गए मानक के मुताबिक मैग्नीशियम कार्बोनेट मिलाया जाना प्रतिबंधित है। अतः जन स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए यह प्रतिबंध फिलहाल एक वर्ष के लिए लगाया गया है।

इससे पहले  बिहार के सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए यह बड़ी खबर है कि अब सचिवालय में किसी स्तर के कोई भी कर्मचारी को कार्यालय में जींस और टी-शर्ट पहनने की इजाजत नहीं है।  उन्हें फॉर्मल ड्रेस में सचिवालय आने के लिए कहा गया है। इतना ही नहीं तड़क भड़क रंगों वाले कपड़ों के पहनने पर भी रोक लगाई गई है।

राज्य सरकार के अवर सचिव शिव महादेव प्रसाद की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि पदाधिकारी और कर्मचारी ऑफिस संस्कृति के खिलाफ कैजुअल ड्रेस पहन कर ऑफिस नहीं आएंगे।  उन्हें फॉर्मल कपड़े पहनकर ही आना होगा।

बिहार सरकार के द्वारा जारी फरमान में लिखा गया है कि पदाधिकारी और कर्मचारी कार्यालय संस्कृति के विरुद्ध अनौपचारिक परिधान में कार्यालय आ रहे हैं, जो कार्यलय की गरीमा के प्रतिकूल है। 

विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में लिखा गया है कि सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दिया जाता है कि कार्यालय में औपचारिक परिधान , सौम्य रंग से शालीन, गरिमायुक्त , आरामदायाक , सामान्य रूप से समाज में पहनने योग्य कपड़े पहनकर ही कार्यालय आएं।   

आपको बता दें कि प्रशासन विभाग ने चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के लिए पहले से ही यहां ड्रेस कोड निर्धारित कर रखा है।  ब्यूरोक्रेटस के लिए भी खास मौकों के लिए ड्रेस कड़ निर्धारित है। अब सचिवालय के अन्य पदाधिकारियों और कर्मचारियों के लिए भी यह नर्देश जारी किया गया है।

DO NOT MISS