General News

डोकलाम के बाद फिर भारत-चीन में तनाव, पहले कश्मीर फिर लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ

Written By Anju Nirwan | Mumbai | Published:

भारत और चीन के बीच सीमा पर एक बार फिर तनाव की स्थिति उभर गई है. ऐसे में सेनाध्यक्ष एमएम नरवणे ने लेह स्थित 14 सैन्यदलों के मुख्यालयों का दौरा किया. इस दौरान उन्होंने उत्तरी कमांड के मुख्य अधिकारियों के साथ चर्चा की.

LAC पर हालात को लेकर आर्मी चीफ ने  लिया जायजा. अपने इस दौरे में आर्मी चीफ ने शीर्ष अधिकारियों के साथ मुलाकात की. लद्दाख में तीन लोकेशन पर चीन के साथ लगातार तनातनी बढ़ रही है. 

सेना प्रमुख के दौरे से पहले दोनों देशों के बीच सैन्य अधिकारियों के स्तर पर बातचीत शुरू हुई थी. लद्दाख सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास भारत और चीन के फील्ड कमांडरों के बीच उत्तरी लद्दाख में गालवान नाला क्षेत्र में जारी गतिरोध को हल करने के लिए बातचीत चल रही है. ड्रैगन भले ही आपसी बातचीत से मुद्दों को सुलझाने की बात कर रहा हो लेकिन हाल ही में उनके हेलिकॉप्टर भारतीय गश्त बिंदु पर आए थे.

गालवान नाला क्षेत्र में निर्माण कार्यों को लेकर भारत-चीन के बीच पिछले दो सप्ताह से लगातार तनाव बना हुआ है. सूत्रों ने बताया कि चीनी बुनियादी ढांचे के विकास के बाद भारत की ओर से LAC के किनारे सीमा सड़क संगठन (BRO) का उपयोग करते हुए सड़कों का नेटवर्क भी बनाया गया है. इसे लेकर भी दोनों पक्षों के बीच तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है.


चीनी सेना और भारतीय सेना के बीच सिक्किम सीमा और लद्दाख में कुछ दिन पहले झड़प हुई थी. इसमें दोनों पक्षों को चोटों आई थीं. इसके बाद चीन ने लद्दाख के पैंगोंग सो झील (Pangong Tso Lake) में पेट्रोलिंग बोटों की संख्या बढ़ा दी. इसके बाद भारत ने भी इस इलाके में सैनिकों की संख्या बढ़ा दी.


लद्दाख में जहां चीन भारत के खिलाफ उकसावे की कार्रवाई कर रहा है वहीं, पाकिस्तान सीमा पर गोलीबारी कर रहा है. माना जा रहा है कि दोनों देश जानबूझकर भारत के खिलाफ साजिश में शामिल हैं. आपको बतादें, आर्मी चीफ नरवणे ने कश्मीर में घुसपैठ की बढ़ती घटनाओं और सीमा पर पाकिस्तानी सेना की गोलीबारी को देखते हुए पिछले महीने वहां का भी दौरा किया था. कश्मीर दौरे के बाद सेना चीफ ने कहा था कि पाकिस्तान को हर मोर्चे पर करारा जवाब दिया जाएगा.