General News

कश्मीर में लोगों की जान की हिफाजत के लिए उठाये जा रहे सभी कदम: राज्यपाल के सलाहकार

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:


जम्मू कश्मीर के राज्यपाल के सलाहकार फारूक खान ने सोमवार को कहा कि प्रशासन ने अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों के समाप्त होने के बाद कश्मीर में कानून व्यवस्था की स्थिति को सफलतापूर्वक संभाला है। उन्होंने कहा कि पिछले एक महीने से अधिक समय में सुरक्षा बलों ने एक भी गोली नहीं चलाई है।

उन्होंने पाकिस्तान पर झूठा प्रचार करने का भी आरोप लगाया।

खान ने कहा कि कश्मीर में उठाये गये सभी कदमों का उद्देश्य लोगों के जीवन की सुरक्षा करना है और घाटी में हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम (लोगों की सुरक्षा में) सफल रहे हैं। एक महीने से अधिक समय गुजर गया, लेकिन कानून व्यवस्था के हालात से निपटने के लिए सुरक्षा बलों और पुलिस की ओर से एक भी गोली नहीं चलाई गयी। यह बड़ी बात है। यह हकीकत है।’’

उनका बयान ऐसे दिन आया है जब संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बैचलेट ने कश्मीर में पाबंदियों पर चिंता जताते हुए भारत से इसमें ढील देने को कहा है।

मानवाधिकार परिषद के 42वें सत्र में अपने शुरूआती वक्तव्य में बैचलेट ने भारत और पाकिस्तान दोनों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि कश्मीरी जनता के मानवाधिकारों का सम्मान और संरक्षण किया जाए।

खान ने संवाददाताओं से कहा कि भारत सरकार पाकिस्तान के दुष्प्रचार को उजागर कर रही है जो झूठ बोलकर कश्मीर के मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठाने में बुरी तरह विफल रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘चीन भी नाकाम हो गया है। दुनिया में सब भलीभांति जानते हैं कि पाकिस्तान दुष्प्रचार कर रहा है और वह झूठ का आका रहा है।’’

खान ने संवाददाताओं से कहा कि जल्द ही व्यापार और कारोबारी गतिविधियां फिर से शुरू होंगी।

उन्होंने कहा, ‘‘घाटी में हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं। आप जल्द बच्चों को स्कूल जाते हुए और फिर से सामान्य तरीके से कारोबार शुरू होते हुए देखेंगे।’’

खान ने सोपोर में एक परिवार पर आतंकवादियों द्वारा गोलीबारी को हताशा में उठाया गया कदम बताया। इस हमले में ढाई साल का एक बच्चा घायल हो गया था।

खान ने स्वस्थ और समृद्ध राष्ट्र के लिए कुपोषण की समस्या के खिलाफ भी एकजुट होकर प्रयास करने की वकालत की।

उन्होंने पोषण अभियान के तत्वावधान में जन आंदोलन के तहत पोषण माह-2019 के उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता करते हुए यह बात कही।
 

DO NOT MISS