Last Updated:

11 से 14 अप्रैल तक मनाएं टीका उत्सव, अभी संपूर्ण लॉकडाउन की नहीं जरूरत : PM मोदी

पीएम ने कहा कि अस बार कोरोना से निपटने के पूरे इंतजाम है। मास्क से लेकर वैक्सीन तक उपलब्ध है। हालांकि उन्होंने कहा कि स्थिति ज्यादा चुनौतीपूर्ण है।


कोविड-19 की स्थिति और देश में वक्सीनेशन को लेकर रणनीति पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शाम  सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के बाद पीएम मोदी ने कहा एक बार फिर चुनौतीपूर्ण स्थिति बन रही है। उन्होंने कहा कि सीएम जरूरी सुझाव दिए है। 

पीएम ने कहा कि अस बार कोरोना से निपटने के पूरे इंतजाम है। मास्क से लेकर वैक्सीन तक उपलब्ध है। हालांकि उन्होंने कहा कि स्थिति ज्यादा चुनौतीपूर्ण है। लेकिन आज हमारे पास संसाधन और अनुभव है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना से बाहर निकलने का रास्ता टेस्टिंग है । उन्होंने कहा कि हमारा टारगेट 70 फीसरी RT-PCT टेस्टिंग की है। आरटी- पीसीआर टेस्ट को बढ़ाए जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि माइक्रो कंटेनमेंट जोन पर फोकस करना होगा। उन्होंने कि 72 से 30 कांटैक्ट ट्रेसिंग की जरूरत है। 

पीएम ने कहा कि कोरोना के मरीजों के बढ़ने पर राज्य दबाव में ना आएँ। उन्होंने कहा कि कोरोना के टेस्ट सही ढंग से किए जाएँ। कंटनमेंट जोन में हर व्यक्ति की जांच हो। उन्होंने कहा कि जहां संख्या ज्यादा है वहां पर ज्यादा टेस्ट हो रहे हैं। आज हम जितनी ज्यादा वैक्सीन की करते हैं, इससे ज्यादा हमें टेस्टिंग पर बल देने की जरूरत है। टेस्टिंग और ट्रेकिंग की बहुत बड़ी भूमिका है। टेस्टिंग को हमें हल्के में नहीं लेना होगा।

पीएम ने कहा कोविड मैनेजमेंट का एक बहुत बड़ा पार्ट vaccine wastage को रोकना भी है। vaccine को लेकर राज्य सरकारों की सलाह, सुझाव और सहमति से सही देशव्यापी रणनीति बनी है।

पीएम मोदी ने कहा कि 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव मनाएं। उन्होंने कहा कि अभी संपूर्ण लॉकडाउन की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 का एक बड़ा हिस्सा वैक्सीन मैनेजमेंट वेस्टेज को रोकना भी है। पीएम ने कहा कि शत-प्रतिशत वैक्सीन लगाने का प्रयास हो। उन्होंने कहा कि एंबुलेंस, वेंटिलेटर और ऑक्सीजन की भी समीक्षा करनी होगी।


उन्होंने कहा वैक्सीनेशन के साथ साथ हमें ये भी ध्यान रखना है कि वैक्सीन लगवाने के बाद की लापरवाही न बढ़े। हमें लोगों को ये बार-बार बताना होगा कि वैक्सीन लगने के बाद भी मास्क और सावधानी जरूरी है।

पीएम ने कहा हमने कोरोना की लड़ाई जीती थी, बिना वैक्सीन के। ये भी भरोसा भी नहीं था कि वैक्सीन आएगी या नहीं। आज हमें भयभीत होने की जरूरत नहीं है। हम जिस तरह से लड़ाई को लड़े थे, उसी तरह से फिर से लड़ाई जीत सकते हैं।

यह भी पढ़ें - गुरु तेग बहादुर के 400वें प्रकाशोत्सव का अवसर राष्ट्रीय कर्तव्य है: PM मोदी

First Published: