Elections

मध्यप्रदेश के किले पर किसका बजेगा डंका, BJP करेगी वापसी या कांग्रेस गाड़ेगी झंडे ?

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव को 'सत्ता का सेमीफाइनल' के तौर पर देखा जा रहा है. ऐसे में चुनाव के नतीजों पर पूरे देश की नजरें टिकी हुई हैं. कुछ ही देर में जीत और हार की तस्वीर साफ हो जाएगी और हर किसी के सस्पेंस ख़त्म हो जाएंगे. हर किसी को उस वक्त का बड़ी ही बेसब्री से इंतजार है. जब पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे सबके सामने हो.

इन पांचों राज्यों में मध्यप्रदेश का अपना अलग ही महत्व है. यहां पिछले तीन पारी से भारतीय जनता पार्टी हैट्रिक जीत दर्ज करके बढ़त बनाई हुई है. लेकिन इस बार कांग्रेस पार्टी ने सरकार बनाने के लिए अपनी एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है. और कांग्रेस इस बार सरकार बनाने का दंभ भर रही है. चुनाव के बाद आए EXIT POLL में बीजेपी मध्यप्रदेश में पिछड़ती दिखाई दे रही थी.

EXIT POLL के अनुसार इस बार कांग्रेस सत्ता में आ सकती है. जिसे एक बड़े उलटफेर के तौर पर देखा जा सकता है. लेकिन आज बीजेपी और कांग्रेस में से किसकी राह कितनी मुश्किल होने वाली है उसकी तस्वीरें साफ हो जाएगी.

मुकाबला कांटे का होने वाला हो. चाहें विधानसभा चुनाव के आने वाले नतीजे हों या फिर आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर मार्च या अप्रैल में होने वाले चुनाव को देखा जाए. मुकाबला काफी कड़ा होने वाला है. लेकिन इन सबके बीच एक बात ये भी निकलकर सामने आ रही है कि मोदी फैक्टर ने बेशक बीजेपी को चुनाव में बनाए रखा लेकिन सत्ताविरोधी लहर को नहीं काट सकी. 15 साल की सत्ता मध्यप्रदेश बचाने के लिए और पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने के लिए काफी नहीं है. 

मध्यप्रदेश चुनाव में 5 बड़े उतार-चढ़ाव..

  1. मध्यप्रदेश में बीजेपी एक बार फिर सत्ता में आने का दावा कर रही है. BJP के मुताबिक वो प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रही है. अगर ऐसा होता है तो इस जीत के बाद वो चौथी बार मध्यप्रदेश की सत्ता पर काबिज हो जाएगी.
  2. मध्यप्रदेश में चुनाव के मद्देनजर अपनी पूरी ताकत झोंकने वाली कांग्रेस पार्टी ने राज्य में 140 सीटें जीतने का दावा किया है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि इस बार पार्टी एक बड़े बहुमत के साथ सत्ता में आएगी.
  3. मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी के अंदर ही गुटबाजी की खबरें आ रही है. कहा जा रहा है कि पार्टी के वरिष्ठ नेता कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच कई मुद्दों को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है. 
  4. मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य और दिग्विजय सिंह के बीच राहुल गांधी के सामने हुआ विवाद किसी से छिपा नहीं है. टिकट बंटवारे को लेकर दोनों के बीच घमासान हो चुका है.
  5. मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भी कांग्रेस ने मुख्यमंत्री का चेहरा साफ नहीं किया है. लेकिन ये बात तो तय है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह तीनों ही कड़े दावेदार होंगे. जो कांग्रेस के लिए मुश्किल का सबब बन सकती है.
DO NOT MISS